नई दिल्ली: कांग्रेस ने राफेल विमान सौदे से जुड़े ‘नए खुलासों’ को लेकर बुधवार को पीएम नरेंद्र मोदी पर फिर निशाना साधा और कहा कि अब मोदी को चुप्पी तोड़ देश को यह बताना चाहिए कि क्या वह देश के प्रधानमंत्री हैं या अनिल अंबानी के चौकीदार हैं.Also Read - अगले लोकसभा चुनाव को लेकर बोले रामदास अठावले, '2024 में खेला नहीं सत्ता के लिए मोदी का मेला होगा'

कांग्रेस ने फ्रांस की श्रमिक संगठनों सीजीटी और सीबीडीटी की दसाल्ट कंपनी के सीओओ लुइक सेगलेन के साथ बैठक के ब्यौरे का हवाला देते हुए कहा कि इससे फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के उस बयान की पुष्टि हुई है कि मोदी सरकार ने ऑफसेट साझेदार के तौर पर अनिल अंबानी की कंपनी का नाम सुझाया था और ऐसे में उनके पास कोई विकल्प नहीं था. Also Read - प्रशांत किशोर कांग्रेस पार्टी में हो सकते हैं शामिल, अखिर क्यों राहुल गांधी ने पार्टी नेताओं से मांगी राय!

Also Read - दिल्‍ली में सियासी मुलाकातें: शरद पवार मिले लालू यादव से, ममता बनर्जी मिलीं अरविंंद केजरीवाल से

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने मीडियाकर्मियों से कहा, ”दोनों श्रमिक संगठनों की दसाल्ट के सीओओ के साथ बैठक का जो ब्यौरा सामने आया है उससे ओलांद के उस बयान के पुष्टि हुई है कि उनके पास ऑफसेट साझेदार के तौर पर रिलायंस डिफेंस के अलावा कोई विकल्प नहीं था.”

कांग्रेस के चीफ स्‍पोकपर्सन सुरजेवाला ने कहा, ”प्रधानमंत्री इन नए खुलासों के बाद चुप्पी साधे नहीं रह सकते और उन्हें अब जवाब देना होगा. उन्हें बताना होगा कि क्या वह देश के प्रधानमंत्री हैं या अनिल अंबानी के चौकीदार हैं?”

सुरजेवाला ने दावा किया कि मोदी सरकार राफेल घोटाले को लेकर जितना अपना बचाव करने की कोशिश कर रही है, उतना ही फंसती जा रही है.