लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश की ताज नगरी आगरा में लूट की हैरतअंगेज घटना सामने आई है. आगरा के सर्राफा कारोबारी से बंदरों ने दो लाख रुपये से भरा बैग लूट लिया. कारोबारी ने जब बंदर का पीछा किया तो वे सौ-सौ रुपये की छह बंडल फेंककर बाकी पैसे लेकर फरार हो गए. दिनदहाड़े कारोबारी से 1.40 लाख रुपये छीने जाने की घटना से लोगों में हड़कंप मच गया. लूट की सूचना पर पहुंची पुलिस भी अचंभी रह गई.

 

जानकारी के मुताबिक, आगरा में नाथ कॉम्पलेक्स धाकरन चौराहा स्थित इंडियन ओवरसीज बैंक के सामने घटना हुई. हलका मदन (नाई की मंडी) के रहने वाले सर्राफा कारोबारी विजय बंसल सोमवार सुबह अपनी बड़ी बेटी नैंसी के साथ बैंक में रुपये जमा करने गए थे. उन्होंने बताया कि दो लाख रुपये का बैग बेटी ने पकड़ा हुआ था. जब वे बैंक के गेट पर पहुंचे तो अचानक से उनपर तीन-चार बंदरों ने हमला बोल दिया और बेटी के हाथ से पैसे वाला बैग लेकर भाग गए. इस पर उन्‍होंने शोर मचाया तो बैंक के सुरक्षाकर्मी और अन्य लोग दौड़े.

1.40 लाख रुपये लेकर बंदर फरार
इस दौरान एक बंदर पैसे का बैग लेकर बिल्डिंग की तीसरी मंजिल पर पहुंच गया. इस दौरान जब लोगों ने खाने के सामान का लालच दिया तो बंदर सौ-सौ रुपये की छह गड्डी छोड़कर चला गया. इसके बाद बंदर बैग में रखे बाकी पैसे लेकर फरार हो गया. सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई. पुलिस ने बंदर को पकड़ने की कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली. बताया जा रहा है कि बंदर ने तीसरी मंजिल की तरफ गड्डी फेंक दी, लेकिन जब कारोबारी वहां गया तो गड्डी नहीं मिली. बंदर 1.40 लाख रुपये लेकर भाग गया.

कारोबारी ने दी तहरीर
सर्राफा कारोबारी विजय बंसल ने मामले की तहरीर पुलिस को दी है. तहरीर मिलने के बाद अब पुलिस असमंजस में है. क्‍योंकि पुलिस लूट की घटना का मुकदमा कैसे लिखें और मामले में किसे आरोपी बनाए. इसलिए पुलिस ने अभी तक मुकदमा नहीं लिखा है. पुलिस टीम ने बैंक का मुआयना कर लोगों से पूछताछ की है. क्‍योंकि पुलिस के अनुसार बंदर अपने साथ नोटों की गड्डी नहीं ले गया है. वह बिल्डिंग में फेंक गया. जिसे किसी व्यक्ति ने ही उठा है. पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है.

फ्रांस की महिला व एक अन्य विदेशी सैलानी पर बंदरों ने किया हमला
बता दें कि बीते दिनों विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल ताजमहल देखने आए विदेशी पर्यटकों पर बंदरों ने हमला कर दिया था. इस पर उन्हें आसपास के लोगों ने बचाया था. बंदरों के हमले से दोनों पर्यटकों के पैरों से खून निकलने लगा. इस पर उन्हें तुरंत ही इलाज मुहैया कराया गया था. इसके बाद सुरक्षा कर्मियों ने बंदरों को भगाया था.