नई दिल्ली: संसद का मॉनसून  सत्र शुक्रवार को समाप्‍त हो गया और दोनों सदनों को अनिश्चितकाल के लिए स्‍थगित कर दिया गया. हालांकि, तमाम आशंकाओं के विपरीत संसद का यह सत्र पिछले कई सत्रों से ज्‍यादा सफल रहा. मॉनसून सत्र की 17 बैठकों में निम्न सदन ने 21 विधेयकों को मंजूरी प्रदान की. राज्‍यसभा में भी 74 प्रतिशत उत्पादकता रही और 17 बैठकों में 14 विधेयक पारित हुए. सरकार की ओर से लोकसभा में 22 विधेयक पेश किए गए. सदन की कार्यवाही तय समय सीमा से 20 घंटे अधिक समय तक चली, क्योंकि सदन के आठ घंटे की कार्यवाही की भरपाई करने के लिए सांसद देर तक लोकसभा में टिके रहे.

लोकसभाध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने मॉनसून सत्र की समाप्ति पर सदन को अनिश्चित काल के लिए स्थगित करते हुए खुशी जाहिर की. उन्होंने कहा, “सदन की 17 बैठकें हुईं, जो 112 घंटे तक चलीं.”

लोकसभा में 21 जुलाई को नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया, जिस पर बहस में 51 सदस्यों ने हिस्सा लिया. महाजन ने बताया कि सरकार ने लोकसभा में 22 विधेयक पेश किए, जिनमें से सदन में 21 पारित हुए. राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा प्रदान करना महत्वपूर्ण कानून था. इसके अलावा, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अधिनियम में तत्काल गिरफ्तारी के प्रावधान को बहाल करना दूसरा महत्वूर्ण कदम रहा. एक अन्य विधेयक के माध्यम से विदेशी मतदाताओं के लिए लोकसभा और विधानसभाओं के चुनावों में अपने मत प्रदान करने के लिए प्रतिनिधि नियुक्त करने का मार्ग सुगम कर दिया गया.

बीके हरिप्रसाद पर पीएम मोदी द्वारा की गई टिप्पणी को संसद की कार्यवाही से हटाया गया

लोकसभा में पारित अन्य महत्वपूर्ण विधेयकों में बच्चों को निशुल्क व अनिवार्य शिक्षा का अधिकार (दूसरा संधोधन) विधेयक, भगोड़ा आर्थिक अपराधी विधेयक, भ्रष्टाचार निवारक (संशोधन) विधेयक, मानव तस्करी (निवारण, रोकथाम व पुनर्वास) विधेयक, आपराधिक विधि (संशोधन) विधेयक, वाणिज्य अदालत, उच्च न्यायालय के वाणिज्य खंड व वाणिज्य अपीली खंड (संशोधन) विधेयक और अचल संपत्ति आवश्यकता व अधिग्रहण (संशोधन) विधेयक शामिल हैं.

राहुल ने कहा मोदी सरकार दलित विरोधी, बीजेपी का जवाब आपके सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं

सदन में वर्ष 2015-16 के लिए अनुपूरक अनुदान मांग (सामान्य) और अधिक अनुदान मांग पर भी चर्चा हुई और संबद्ध विनियोग विधेयकों को मंजूरी प्रदान की गई. सदस्यों ने सार्वजनिक महत्व के 534 मुद्दे उठाए और नियम 377 के तहत 326 मसले उठाए गए. सदन में देशभर में बारिश और सूखे के हालात पर भी अल्प अवधि के दौरान चर्चा हुई. महाजन ने कहा, “सदन में आठ घंटे और 26 मिनट का वक्ता बर्बाद हुआ, मगर सदस्यों ने तय अवधि से 20 घंटे 43 मिनट अधिक समय सदन को दिया.”उन्होंने कहा कि यह सत्र पिछले दो सत्रों के मुकाबले अधिक उत्पादक व संतोषप्रद रहा. मॉनसून सत्र 18 जुलाई को आरंभ हुआ था.

उपसभापति चुनाव ने बदल दिया ‘खेल’, अब इन तीन पार्टियों में BJP को दिख रहा दोस्त

शुक्रवार को ही राज्यसभा भी अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई. सभापति एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि सदन में 74 प्रतिशत उत्पादकता रही और 17 बैठकों में 14 विधेयक पारित हुए. नायडू ने कहा, “मीडिया ने उम्मीद जताई थी कि यह सत्र हंगामे की भेंट चढ़ जाएगा. लेकिन मैं खुश हूं कि मीडिया एकबार फिर गलत साबित हुआ. यह सत्र पिछले बजट सत्र की तुलना में तीन गुना ज्यादा उत्पादक साबित हुआ.” उन्होंने कहा, “हमने 14 विधेयक पारित किए, जबकि अंतिम दो सत्रों में कुल मिलाकर 10 विधेयक ही पारित हुए थे.”