नई दिल्ली: हिंसा ग्रस्त राज्य जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों का दावा है कि इस साल (2018) में उन्होंने अब तक 230 से अधिक आतंकवादियों को मार गिराने में कामयाबी पाई है. साथ ही सुरक्षा बलों का ये भी कहना है कि इस दौरान पथराव की घटनाओं में घायल होने वालों की संख्या में भी कमी आई है. सुरक्षा अधिकारियों ने शनिवार को जानकारी देते हुए बताया कि 25 जून से 14 सितंबर के बीच 80 दिन की समयावधि में करीब 51 आतंकवादी मारे गए जबकि 15 सितंबर से पांच दिसंबर के बीच 85 आतंकवादियों को सुरक्षा बलों ने ढेर किया. Also Read - Army Day 2021: आर्मी चीफ का चीन को स्पष्ट संदेश, कहा- भारतीय सेना के धैर्य की परीक्षा न ले कोई देश, हम...

Also Read - Army Day 2021: BJP ने सेना दिवस के अवसर पर साझा किया बेहतरीन वीडियो, दिखा जवानों का पराक्रम

राज्यपाल शासन से घाटी के हालात में सुधार Also Read - Indian Army Recruitment Rally 2021: 10वीं, 12वीं के लिए भारतीय सेना में नौकरी करने का सुनहरा मौका, आवेदन प्रक्रिया शुरू, इस Direct Link से करें अप्लाई

जम्मू-कश्मीर में तैनात सुरक्षा बल के अधिकारी ने कहा कि इस साल अब तक 232 आतंकवादी मारे गए जबकि विदेशियों सहित 240 आतंकवादियों के कश्मीर घाटी में सक्रिय होने की सूचना है. उन्होंने आंकड़े देते हुए बताया कि इस साल 25 जून से 14 सितंबर के बीच पत्थरबाजी की घटनाओं में सुरक्षाकर्मियों सहित आठ लोगों की जान गई जबकि जवानों सहित 216 अन्य घायल हुए. अधिकारी ने कहा कि इसके बाद के 80 दिन यानी 15 सितंबर से पांच दिसंबर के बीच इन घटनाओं में केवल दो लोगों की मौत हुई जबकि 170 अन्य घायल हुए.

शहीद को सलाम करने उमड़े लोग, गर्भवती पत्नी का बुरा हाल, पिता बोले- मर गया नेताओं की आंखों का पानी

वहीं इन जानकारियों को मीडिया के साथ साझा किए जाने के दौरान एक अन्य अधिकारी ने कहा कि भाजपा द्वारा महबूबा मुफ्ती नीत सरकार से समर्थन वापस लेने और 19 जून से राज्य में राज्यपाल शासन लगाए जाने के बाद कश्मीर घाटी की सुरक्षा स्थिति में सुधार आया है और हिंसा की घटनाओं में कमी आई है. राज्य में चल रहे पंचायत चुनाव का आठवां चरण आज शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया. (इनपुट एजेंसी)

जम्मू-कश्मीर: मुठभेड़ में तीन पाकिस्तानी सहित 8 आतंकवादी ढेर, 12 सुरक्षाकर्मी घायल