गांधीनगर: देश में कोरोना वायरस के बढ़ते खतरों को देखते हुए पीएम मोदी ने 21 दिनों के लॉकडाउन का एलान किया मगर कई राज्यों में इस नियम की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं. महामारी के खतरे को देखने के बाद भी लोग घरों में रहना पसंद नहीं कर रहे हैं. Also Read - यूपी के विश्वविद्यालयों में जल्द शुरू की जाएगी ऑनलाइन क्लास, जानें एडमिशन और परीक्षाओं की पूरी जानकारी

लॉकडाउन के चौथे दिन शनिवार को गुजरात पुलिस ने राज्य के 3,800 से अधिक लोगों को कोविड-19 के प्रकोप के बाद निर्धारित नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किया. राज्य पुलिस ने लोगों को चेतावनी दी है कि वह आवासीय सोसाइटियों के ऊपर किसी भी तरह की भीड़ पर नजर रखने के लिए ड्रोन का उपयोग करेगी. पुलिस ने युवाओं को चेतावनी दी है कि वे बेवजह बाहर न घूमें अन्यथा पुलिस की कड़ी कार्रवाई उनके करियर को खतरे में डाल सकती है. Also Read - पर्यटकों के लिए खुशखबरी, इस दिन से देख सकेंगे जम्मू-कश्मीर की हसीन वादियां, दिशानिर्देश जारी

पुलिस ने इस संबंध में शनिवार को मीडिया को सूचित किया. गुजरात के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) शिवानंद झा ने कहा, लॉकडाउन के चौथे दिन हमने कड़ी कार्रवाई शुरू कर दी है. अब तक हमने कानून और व्यवस्था का उल्लंघन करने वाले 3,857 लोगों को गिरफ्तार किया है. हमने कुल 2,653 अपराधों के लिए मामले दर्ज किए हैं. धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेशों का उल्लंघन करने पर 608 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. Also Read - डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने LNJP अस्पताल का किया दौरा, कोरोना उपचार का लिया जायजा

उन्होंने कहा कि 392 व्यक्तियों पर घरों में एकांतवास नियमों का उल्लंघन करने के लिए मामला दर्ज किया गया है. झा ने कहा, हमने 3,365 वाहन जब्त किए हैं. हम युवाओं से अनुरोध करते हैं कि वे अनावश्यक रूप से बाहर न निकलें, अन्यथा उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, जिससे उनके करियर को भी नुकसान पहुंच सकता है. झा ने कहा, हमें शिकायतें मिली हैं कि लोग सोसायटी के आम भूखंडों में इकट्ठा होते हैं. हम ड्रोन के माध्यम से उन पर नजर रखने जा रहे हैं.

डीजीपी ने कहा, सभी लोगों को मेरी सलाह है कि सोशल मीडिया पर फर्जी संदेश न फैलाएं. हम इस पर बहुत सख्त हैं और हमने कार्रवाई शुरू कर दी है. सोशल मीडिया पर फर्जी संदेश फैलाने वाले लोगों के खिलाफ दाहोद जिले की पुलिस ने दो मामले दर्ज किए हैं और भावनगर रेंज ने चार मामले दर्ज किए हैं.

इनपुट-एजेंसी