नई दिल्‍ली: मध्य प्रदेश विधानसभा की 230 और मिजोरम की 40 सीटों के लिए आज कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतदान होगा. दोनों राज्‍यों में मतगणना 11 दिसंबर को होगी. मध्‍य प्रदेश में मुख्‍य चुनावी मुकाबला सत्‍तारूढ़ भाजपा और कांग्रेस के बीच है. हालांकि, बहुजन समाज पार्टी, आम आदमी पार्टी, समाजवादी पार्टी सहित कई अन्‍य पार्टियां भी मैदान में हैं. वहीं मिजोरम में मुख्‍य मुकाबला कांग्रेस और मिजो नेशनल फ्रंट के बीच है.

मिजोरम में विधानसभा चुनाव के लिए अधिकारियों ने पहली बार सभी मतदान केंद्रों को वायरलेस संचार तंत्र से जोड़ने का फैसला किया है. राज्य के कई क्षेत्र दुर्गम हैं. मिजोरम में 7,70,395 मतदाता हैं जो 1,164 मतदान केंद्रों में अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. त्रिपुरा के छह शिविरों में रहने वाले ब्रू शरणार्थियों के लिए ममित जिले के कानहमुन गांव में अतिरिक्त 15 विशेष मतदान केंद्र बनाए गए हैं. चुनाव के मद्देनजर सुरक्षा के लिए राज्य की सीमाओं पर विशेष रूप से ध्यान दिया गया है. मिजोरम के डीजीपी ने इन राज्यों में अपने समकक्षों से सहयोग मांगा है.

वहीं, मध्‍य प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वी एल कांता राव ने मंगलवार को बताया, ‘‘28 नवंबर को मध्य प्रदेश विधानसभा की सभी 230 सीटों के लिए मतदान होगा. 227 विधानसभा क्षेत्रों में सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक तथा बालाघाट जिले के तीन नक्सल प्रभावित विधानसभा क्षेत्रों परसवाड़ा, बैहर एवं लांजी में सुबह 7 बजे से अपराह्न 3 बजे तक मतदान होगा.’’ उन्होंने बताया कि कुल 5,04,95,251 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे जिनमें 2,63,01,300 पुरुष, 2,41,30,390 महिलाएं एवं 1,389 थर्ड जेंडर मतदाता शामिल हैं. इनमें से 65,000 सर्विस मतदाता डाक मतपत्र से पहले ही मतदान कर चुके हैं. बाकी 5,04,33,079 मतदाता बुधवार को अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे.’’

राव ने कहा कि इस चुनाव के लिए 1,094 निर्दलीय उम्मीदवारों सहित कुल 2,899 उम्मीदवार मैदान में हैं. इनमें 2,644 पुरुष, 250 महिलाएं एवं पांच ट्रांसजेंडर शामिल हैं. उन्होंने बताया कि समूचे राज्य में 65,367 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. इनमें से 17,000 मतदान केन्द्र संवेदनशील घोषित किए गए हैं, जहां केन्द्रीय पुलिस बल और वेवकास्टिंग के साथ माइक्रो पर्यवेक्षक भी तैनात किए गए हैं. सभी मतदान केन्द्रों पर मतदान के लिये ईवीएम के साथ वीवीपैट का उपयोग होगा. राव ने बताया कि राज्य में शांतिपूर्ण, स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराने के लिए 1.80 लाख सुरक्षाकर्मी तैनात किये गये हैं. इनमें केन्द्रीय बल और राज्य के सुरक्षाकर्मी शामिल हैं. उन्होंने कहा कि चुनावी तंत्र निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान सुनिश्चित कराने के लिए पूरी तरह से तैयार है.

MP Assembly Election 2018: पीएम मोदी, राहुल गांधी ने की सभाएं, पर शिवराज-सिंधिया ही रहे स्टार प्रचारक

मध्य प्रदेश में इस बार भी मुख्य रूप से भाजपा एवं कांग्रेस के बीच मुकाबला होने की उम्मीद है. हालांकि, प्रदेश में पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रही आम आदमी पार्टी (आप) का दावा है कि वह दिल्ली वाली अपनी सफलता को राज्य में दोहराएगी, जहां 2015 के विधानसभा चुनाव में उसने कांग्रेस और भाजपा का सूपड़ा साफ कर दिया था. भाजपा ने सभी 230 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं, जबकि कांग्रेस ने 229 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं और एक सीट अपने सहयोगी शरद यादव के लोकतांत्रिक जनता दल के लिये छोड़ी है. आप 208 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. बसपा 227, शिवसेना 81 और सपा 52 सीटों पर चुनावी मैदान में है.

MP Assembly Election 2018: विकलांग वोटर्स के लिए विशेष इंतजाम, जानिए क्या-क्या मिलेंगी सुविधाएं

चुनाव मैदान में खड़ी कई छोटी पार्टियां प्रदेश के मुख्य दलों भाजपा एवं कांग्रेस के लिए सिर दर्द बन गई हैं, क्योंकि ये इनकी जीत को हार में बदलने में अहम भूमिका अदा कर सकती हैं. इस अहम चुनाव में विपक्षी दल कांग्रेस पिछले 15 साल से सत्तारुढ़ भाजपा को उखाड़ने के लिये प्रयास कर रही है जबकि भाजपा ने लगातार चौथी दफा प्रदेश की सत्ता में आने के लिये अबकी बार 200 पार का लक्ष्य तय किया है.

मप्र विधानसभा चुनाव: मतदान के एक दिन पहले राहुल ने वोटर्स को लिखी चिट्ठी, ‘हम देंगे अच्‍छी सरकार’

राव ने बताया कि प्रदेश में कुल 3,00,782 कर्मचारी चुनाव कार्य में लगाए गए हैं. इनमें 45,904 महिला कर्मचारी शामिल हैं. उन्होंने कहा कि प्रदेश में 160 मतदान केन्द्र केवल दिव्यांग कर्मचारियों के जिम्मे रहेंगे. ये बूथ पूरी तरह दिव्यांग कर्मचारी ही संचालित करेंगे. इसके अलावा 3,046 मतदान केन्द्र केवल महिला कर्मचारियों द्वारा संचालित किए जाएंगे. राव ने बताया कि अटेर एवं मेहगांव दो विधानसभा सीटों में 32 से ज्यादा उम्मीदवार हैं. वहां पर तीन-तीन बैलट यूनिट लगाई जा रही हैं. वहीं, 45 सीटें ऐसी हैं, जहां पर 16 से 32 उम्मीदवार मैदान में हैं. वहां पर दो-दो बैलट यूनिट लगाई गई हैं.

मप्र चुनाव: वोटिंग के पहले कॉफी हाउस में ‘बेफिक्र’ शिवराज- जीत का आत्‍मविश्‍वास या टोटके का सहारा?

उन्होंने कहा कि छतरपुर विधानसभा सीट पर सबसे ज्यादा सात महिला प्रत्याशी मैदान में हैं. वहां पर कुल 16 उम्मीदवार मैदान में हैं. वहीं मेहगांव में सबसे ज्यादा 33 पुरुष प्रत्याशी हैं. इस क्षेत्र में कुल 34 प्रत्याशी मैदान में हैं. मतगणना 11 दिसंबर को होगी.