खंडवा: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ ने पर्यटन को रोजगार का साधन बनाने का वादा किया है. खंडवा जिले के इंदिरा सागर बांध स्थित हनुवंतिया पर्यटन स्थल में चौथे जल महोत्सव का शुभारंभ करते हुए शुक्रवार को मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में उपलब्ध पर्यटन की असीम संभावनाओं को रोजगार से जोड़ा जाएगा. उन्होंने कहा, “हम ऐसी रणनीति बना रहे हैं, जिससे पर्यटन स्थल राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय आकर्षण के केंद्र बनें और लोगों को व्यापक पैमाने पर रोजगार उपलब्ध हो.”

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि मनोरंजन की दृष्टि से पर्यटन क्षेत्र सर्वाधिक महत्वपूर्ण हैं. प्रदेश में विश्वस्तर के पर्यटन स्थल हैं. बड़ी संख्या में जल और वन संपदा है. जरूरत है कि हम अपनी इस संपदा को आर्थिक और रोजगार की दृष्टि से विकसित करें. उन्होंने कहा, इससे प्रदेश के नागरिकों की आय में वृद्धि करने के साथ ही उनके जीवन-स्तर में भी सुधार ला सकते हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि हनुवंतिया जैसे अन्य पर्यटन स्थलों का भी सुनियोजित विकास किया जाएगा. इससे बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा.

उत्तर भारत में नहीं मिल रही ठंड से राहत, कोहरे की वजह से इतनी ट्रेनें चल रही हैं देरी से

मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार की पिछले एक वर्ष की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए कहा, “किसानों का कर्ज माफ करके हमने किसानों की उन्नति के नए रास्ते बनाए हैं. दूसरे चरण में चालू खाते वाले किसानों की ऋणमाफी की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है.”

इस मौके पर पर्यटन मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल ने आगामी योजनाओं का जिक्र करते हुए बताया कि महाकालेश्वर, ओंकारेश्वर, महेश्वर, मांडू, मोहनखेड़ा और सिंगाजी को मिलाकर एक टूरिस्ट सर्किट विकसित किया जाएगा. कार्यक्रम को लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव और विधायक नारायण पटेल ने भी संबोधित किया.