नई दिल्‍ली: मध्‍य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट की बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर रविवार को दिए एक विवादित बयान के बाद सोमवार को दिल्‍ली स्थित पार्टी मुख्‍यालय में बीजेपी के कार्यकारी अध्‍यक्ष जेपी नड्डा और संगठन महामंत्री बीएल संतोष से मिलने पहुंची हैं. माना जा रहा है कि प्रज्ञा ठाकुर को पार्टी के शीर्ष नेतृत्‍व ने उनके एक दिन पहले रविवार को संसदीय क्षेत्र भोपाल के अंतर्गत सीहोर जिले में दिए गए बयान को लेकर तलब किया है. बता दें कि बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने रविवार को कहा था कि वह नाली एवं शौचालय साफ करने के लिए सांसद नहीं बनीं हैं. वहीं, असदुद्दीन ओवैसी ने बीजेपी सांसद के बयान को लेकर कड़ी आलोचना की है.

VIDEO: प्रज्ञा ठाकुर का विवादित बयान, कहा- हम नाली-शौचालय साफ कराने को नहीं बने सांसद

अवैसी ने साधा प्रज्ञा ठाकुर पर निशाना
वहीं, असदुद्दीन अवैसी ने प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर कहा, बिलकुल भी आश्‍चर्य में नहीं, न ही मैं इस अप्र‍िय बयान से हैरान हूं, वह ऐसा कहती हैं क्‍यों यह उनकी थॉट प्रोसेस है. यह सांसद भारत में हो रहे जाति और वर्ग के भेदभाव पर विश्‍वास करती हैं. साफतौर पर बता दियाहै कि यह काम किस जाति को परिभाषित करता है और उसे जारी रहना चाहिए. यह बहुत ही दुर्भायपूर्ण है. उन्‍होंने साफतौर पर पीएम के कार्यक्रम का खुलेआम विरोध किया है.

भोपाल लोकसभा सीट के क्षेत्र में दिया था ये बयान
सीहोर इलाका भोपाल संसदीय क्षेत्र में आता है.सीहोर से किसी काम को लेकर कार्यकर्ता के आए फोन का प्रज्ञा ने जिक्र किया. सीहोर में रविवार को पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ”आपको एक फोन नंबर सहजता से मिल गया और आपने (मुझे) लगा दिया. हम किस परिस्थिति में हैं? क्या कर रहे हैं ?…” उन्होंने कहा, संसद सत्र के बाद उन चीजों को क्रियान्वित करने के लिए हम यहां रहेंगे. आपकी सुनेंगे. जो भी समस्या है हम वहां जाकर समाधान कराएंगे. जो धनराशि हमको मिलेगी, आप लोगों के लिए मिलती है, खर्च आप लोगों पर ही करना है. यही होना है ना.”

हम आपके शौचालय साफ करने के लिए बिलकुल नहीं बनाए गए हैं
प्रज्ञा ने कहा, ” तो ध्यान रखो, हम नाली साफ करने के लिए नहीं बने हैं. ठीक है ना. हम आपके शौचालय साफ करने के लिए बिलकुल नहीं बनाए गए हैं. हम जिस काम के लिए बनाए गए हैं, वह काम हम ईमानदारी से करेंगे. यह हमारा पहले भी कहना था, आज भी कहना है और आगे भी कहेंगे.”

 प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था स्‍थानीय प्रतिनिधियों को बताएं ऐसी समस्‍याएं 
बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि सांसद का काम सांसद को बताना चाहिए. सांसद का काम है कि वह विधायक, पार्षद, मंडल अध्यक्ष व बाकी सबसे मिल करके यहां का विकास करें. स्थानीय समस्याओं के लिए जो लोग आपने चुने हैं उन्हें बताएं. अपने को उनसे भी काम करवाना है.

पीएम ने स्वच्छ भारत मिशन शुरू किया था
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दो अक्टूबर 2014 को देश भर में एक राष्ट्रीय आंदोलन के रूप में स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत की थी. इसके तहत मोदी ने स्वयं झाड़ू उठाई थी. इसके बाद कई नेताओं, अभिनेताओं और जिलाधिकारियों सहित कई हस्तियों ने भी इस सफाई अभियान में भाग लिया. कुछ ने तो नालियां तक साफ की. प्रज्ञा का यह बयान इस सफाई अभियान के खिलाफ माना जा रहा है.

कांग्रेस ने भी प्रज्ञा और बीजेपी पर निशाना साधा
मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने सांसद प्रज्ञा के बयान की निंदा करते हुए कहा, “जिस स्वच्छ भारत अभियान को प्रधानमंत्री मोदी ने जोर-शोर से अपने फ्लैगशिप अभियान की तरह चलाया और उसे अपनी सरकार का एक प्रमुख क्रांतिकारी कदम बताया, उसी कदम की गंभीरता की पोल उनकी ही सांसद ने खोल दी है.” उन्होंने आगे कहा, “इससे साफ है कि भारतीय जनता पार्टी केवल नारों और जुमलों में यकीन रखती है, जनता की भलाई और विकास जैसे मुद्दों से उसका दूर-दूर तक कोई सरोकार नहीं है.”

गोडसे को बताया था देशभक्‍त
प्रज्ञा ठाकुर ने लोकसभा चुनाव के दौरान महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया था, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने भी नाराजगी जताई थी.