नई दिल्लीः भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने शनिवार को कहा कि अगर भाजपा दिल्ली में सत्ता में आती है तो शहर की सरकारी जमीनों को धार्मिक संरचनाओं के अतिक्रमण से मुक्त कराया जाएगा. पश्चिमी दिल्ली के सांसद ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा कि यहां सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर निर्मित मस्जिदों को निश्चित रूप से गिराया जाएगा.Also Read - सपा के शासन में जाली टोपी वाले गुंडे व्यापारियों को धमकाते थे, UP Dy CM केशव मौर्य

दिल्ली विधानसभा (Delhi Assembly) की 70 सीटों के लिए मतदान आठ फरवरी को होगा और 11 फरवरी को चुनाव परिणाम की घोषणा होगी. वर्मा ने हिंदी में ट्वीट किया, ‘‘ दिल्ली में भाजपा की सरकार बनते ही उन सरकारी जमीनों को खाली कराया जाएगा जिन पर धार्मिक स्थलों का निर्माण किया गया है. दिल्ली में 54 से ज्यादा मस्जिद, मदरसे सरकारी जमीन पर बने होने की शिकायत अभी तक आई है. सूची दिल्ली के उपराज्यपाल को पहले ही दी जा चुकी है.’’ Also Read - Bihar: विधानसभा परिसर में DM, SSP की कार को रास्‍ता देने के लिए मंत्री की कार रोकी पुलिसकर्मी ने, अब हाई लेविल की जांच के आदेश


सोमवार को उन्होंने कहा था कि अगर उन्हें दिल्ली में किसी भी मंदिर या गुरुद्वारा द्वारा सरकारी जमीन पर अतिक्रमण किए जाने की शिकायत मिलेगी तो वह इस मामले को प्रशासन के समक्ष उठाएंगे. उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ लेकिन कोई भी मंदिर या गुरुद्वारा सरकारी जमीन पर बना हुआ नहीं मिला. सिर्फ मस्जिद ही सरकारी जमीन पर बने हुए मिले हैं.’’ Also Read - 'जागो बांग्ला' में TMC ने कहा- कांग्रेस की ताकत 'खत्म', BJP से लड़ने को ममता बनर्जी ही विपक्ष का चेहरा

पिछले साल जून में वर्मा ने उप राज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिख कर कथित तौर पर सरकारी जमीनों पर बने मस्जिदों और क्रबिस्तानों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी. उन्होंने कार्रवाई के लिए 50 स्थलों का नाम भी गिनाया था. हालांकि वर्मा के दावे को संज्ञान में लेते हुए दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने एक तथ्य अन्वेषण समिति का गठन भी किया था जिसने जांच के बाद उनके दावे को ‘झूठा’ करार दिया.