भोपाल: प्रसिद्ध लेखक खुशवंत सिंह के उपन्यास पर एक नया विवाद सामने आया है. ये हैरान करने वाला मामला मध्‍य प्रदेश के भोपाल में सामने आया है. रेलवे की यात्री सेवा समिति के अध्यक्ष ने भोपाल स्टेशन पर एक विक्रेता को खुशवंत सिंह के उपन्यास महिला, सेक्स, प्रेम और वासना को बेचने से रोकने के लिए कहा है, यह कहते हुए कि ‘अश्लील’ साहित्य भविष्य की पीढ़ी को खराब कर सकता है. खबरों के अनुसार, वह स्टेशन पर एक निरीक्षण अभियान पर था जब उसने पुस्तक की जांच की और पुस्‍तक विक्रेता से कहा कि यदि वह जुर्माना से बचना चाहता था तो ऐसी पुस्तकों को तुरंत हटा देना चाहिए.

रेलवे बोर्ड की यात्री सेवा समिति के अध्यक्ष रमेश चंद्र रत्न ने बुधवार को यहां भोपाल रेलवे स्टेशन पर निरीक्षण के दौरान प्रसिद्ध लेखक खुशवंत सिंह के उपन्यास ” वुमन, सेक्स, लव और लस्ट” (Women, Sex, Love and Lust) को अश्लील करार देते हुए बुक स्टॉल से हटाने के निर्देश दिए.

भोपाल रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधाओं का निरीक्षण करने के दौरान रमेश चंद्र रत्न ने बुक स्टॉल पर लेखक खुशवंत सिंह के उपन्यास के अलावा कुछ और पुस्तकों की बिक्री पर आपत्ति प्रकट की और स्टॉल संचालक को चेतावनी दी.

यात्री सेवा समिति के अध्यक्ष ने संवाददाताओं से कहा, अधिकारियों को भी इसके लिए सचेत किया और निर्देशित किया है कि अश्लील चीजें किसी बुक स्टॉल पर नहीं मिलने दें.” उन्होंने कहा, ‘‘हम कोई चीज ऐसी नहीं चलने देना चाहते हैं, जिससे नई पीढ़ी को कोई आघात पहुंचे.” उन्होने भोपाल रेलवे स्टेशन की स्वच्छता और यात्री सुविधाओं का निरीक्षण करने के बाद संतोष व्यक्त किया.

दिलचस्प बात यह है कि यह वही व्यक्ति है जिसे दो महीने पहले नई दिल्ली रेलवे स्टेशन का निरीक्षण करने के दौरान चेतन भगत की हाफ गर्लफ्रेंड के कवर और शीर्षक पसंद नहीं आए थे. उस समय इस मामले ने सोशल मीडिया पर हंगामा मचा दिया था.