मुंबईः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अपनी महाराष्ट्र यात्रा की शुरुआत यहां के उपनगर विले पार्ले में 96 साल पुराने लोकमान्य सेवा संघ (एलएसएस) में स्थापित भगवान गणेश के ‘शुभ दर्शन’ के साथ की. लोकमान्य सेवा संघ की स्थापना 11 मार्च, 1923 को लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के अनुयायियों द्वारा सामाजिक रूप से सतर्क, अनुशासित, सुसंस्कृत और प्रगतिशील समाज के निर्माण के लिए की गई थी. मोदी भगवान गणेश के दर्शन के लिए हवाई अड्डे से सीधे पहुंचे थे.

मैं राष्ट्रपति बनना चाहूं तो..? बच्चे के सवाल पर पीएम मोदी का जवाब सुन क्यों हंस पड़े लोग, देखें वीडियो

राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत लोकमान्य सेवा संघ अध्यक्ष मुकुंद चितले, समिति के सदस्य रश्मि फडणवीस, महेश काले, उदय तड़ालकर और अन्य ने किया. समिति के सदस्य प्रधानमंत्री मोदी को लोकमान्य सेवा संघ के दौरे पर ले गए और उन्हें विभिन्न गतिविधियों और वहां लगाई गईं प्रदर्शनियों के बारे में समझाया.

बाद में मुख्य हॉल में प्रधानमंत्री ने भगवान गणेश के दर्शन किए, जिसे 10 दिनों तक चलने वाले त्योहार गणेश चतुर्थी के उपलक्ष में स्थापित किया गया था. तड़ालकर ने आईएएनएस से कहा कि, प्रधानमंत्री मोदी ने लोकमान्य गंगाधर तिलक के योगदान को याद करते हुए आगंतुक रजिस्टर में गुजराती में लिखा और बाद में वह मुंबई में होने वाले अपने दूसरे कार्यक्रमों में शिरकत करने के लिए निकल गए. एल एस एस के अधिकारियों ने पीएम मोदी को लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की तस्वीर और कुछ पुस्तकें भी भेट कीं.