जयपुर: अखिल भारतीय मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मंगलवार को तीन तलाक विधेयक में कमियां बताते हुए केन्द्र सरकार से मुस्लिम महिलाओं के हित में विधेयक वापस लेने की मांग की. बोर्ड ने विधेयक के विरोध में मुस्लिम महिलाओं द्वारा बुधवार को मौन जूलुस निकालने की घोषणा की है.

बोर्ड के सचिव उमरेन महफूज ने संवाददाताओं को बताया कि इस विधेयक में बहुत सारी कमियां है और यह ना केवल संविधान के विरूद्व है बल्कि इस्लामिक सिंद्वातों के भी खिलाफ है. बड़ी संख्या में मुस्लिम महिलाएं चिंतित हैं और देशभर में विधेयक के विरोध में में प्रदर्शन किए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि बोर्ड के अध्यक्ष ने विधेयक के संबंध में अपनी चिंताओं से लिखित में प्रधानमंत्री को अवगत करा दिया है लेकिन प्रधानमंत्री की तरफ से कोई जवाब नहीं मिला है.

महफूज ने बताया कि विधेयक में ऐसे कई प्रावधान हैं और यदि यह कानून बन गया तो मुस्लिम महिलाओं के लिये परेशानियां बढ़ेंगी. बोर्ड की सदस्य यास्मिन फारूखी ने कहा कि विधेयक के विरोध में बुधवार को बड़ी संख्या में मुस्लिम महिलाएं मौन जूलुस निकालेंगी.

उन्होंने कहा कि यह विधेयक महिलाओं और बच्चों के खिलाफ है. इससे परिवार टूट जाएंगे. इसे इस तरीके से ड्राफ्ट किया गया है कि इससे परिवारों को नुकसान होगा और महिलाओं के लिये समस्याएं बढ़ेंगी.