Mysuru Gangrape Case: मैसुरु सामूहिक दुष्कर्म मामले में और भी भयावह जानकारियां सामने आई हैं. बदमाशों ने कॉलेज गर्ल के यौन उत्पीड़न का वीडियो बनाया और उसे सोशल मीडिया पर वायरल नहीं करने के लिए तीन लाख रुपये की मांग की. पुलिस सूत्रों ने गुरुवार को यह जानकारी दी. पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने घटना को किस तरह से अंजाम दिया और उस दौरान क्या-क्या हुआ, ये पूरी जानकारी पुलिस को पीड़िता ने दी है. बता दें कि ये सामूहिक दुष्कर्म की यह घटना मंगलवार देर शाम की है. अपने पुरुष मित्र के साथ सुनसान जगह पर आई पीड़िता को नशे की हालत में छह बदमाशों के गिरोह ने निशाना बनाया था. उन्होंने उसके पुरुष मित्र पर एक छोटे से पत्थर से हमला किया था.Also Read - 2 साल का दलित बच्चा मंदिर में घुसा, परिवार पर 23 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया

पुलिस सूत्रों के अनुसार- बदमाशों ने पीड़िता और उसके पुरुष मित्र को पकड़ लिया और करीब दो घंटे तक उसके साथ दुष्कर्म किया. चूंकि, ये जगह अलग-थलग है और लोगों को तेंदुओं की आवाजाही का डर है, इसलिए बदमाशों को यकीन था कि उनकी हरकत पर किसी का ध्यान नहीं जाएगा और कोई भी लड़की को बचाने के लिए नहीं आएगा. Also Read - MP News: जेल से छूटकर आने के दूसरे दिन ही लड़की को छेड़ा, लोगों ने ऐसे की मरम्मत

किसी तरह हॉस्पिटल पहुंचे
बदमाशों ने पीड़िता के दोस्त को बार-बार छोटे-छोटे बोल्डर से मारा था, थप्पड़ मारकर मारपीट की थी. दोनों ने गुहार लगाई कि वे घटना के बारे में किसी को नहीं बताएंगे. उसके बाद भी गिरोह ने अपना हमला जारी रखा और लगभग अचेत अवस्था में उन्हें सुनसान जगह पर छोड़ दिया. किसी तरह पीड़िता और उसका दोस्त एक अस्पताल पहुंचे और अधिकारियों को बताया कि उन पर हमला किया गया है. उन्होंने यह खुलासा नहीं किया कि वीडियो के जारी होने के डर से वास्तव में क्या हुआ था. लेकिन बाद में पीड़िता के पुरुष मित्र ने पुलिस को दुष्कर्म के बारे में बताया. Also Read - अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरि मृत मिले, पुलिस ने बताई आत्महत्या, शिष्य बोले- मर्डर है

इलाके में बीयर की खाली बोतलें मिलीं
पुलिस ने इलाके से बीयर की खाली बोतलें और डिब्बे बरामद किए हैं. पुलिस सूत्रों ने कहा कि वे टावर लोकेशन से कॉल ट्रैक करने पर काम कर रहे हैं, क्योंकि उन्हें शक है कि बदमाश वहां ज्यादा समय बिता रहे हैं. इस बीच राष्ट्रीय महिला आयोग ने सामूहिक दुष्कर्म मामले में स्वत: संज्ञान लेते हुए मामला दर्ज किया है. अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा है कि आयोग गुरुवार को पीड़िता से मुलाकात करेगा.

दुष्कर्मी कन्नड़ में बातें कर रहे थे
पुलिस पीड़िता के दोस्त से जानकारी जुटा रही है, लेकिन अभी तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा है. राज्य सरकार ने घटना की जांच के लिए एडीजीपी प्रताप रेड्डी को नियुक्त किया है. सीसीटीवी नहीं होने के कारण पुलिस सुराग की तलाश कर रही है. लड़की और उसके दोस्त से मिली शुरुआती जानकारी के अनुसार, दुष्कर्मियों ने कन्नड़ में बात की थी. इससे पता चलता है कि वे स्थानीय लोग हैं. पुलिस पीड़िता के विस्तृत बयान का इंतजार कर रही है और दी गई जानकारी के आधार पर बदमाशों का स्केच तैयार कर रही है.