नई दिल्ली: देश में अगले साल 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी से मुकाबले के लिए विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने की कोशिशों में जुटे तेलुगुदेशम पार्टी के अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के सीएम एन चंद्रबाबू नायडू ने गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की. राहुल से मुलाकात के बाद नायडू ने कहा, हम एक-साथ आ रहे हैं देश को बचाने. हमें भूतकाल को भूलना होगा. एक होना अब ये एक लोकतांत्र‍िक बाध्‍यता है. सारे विपक्ष्‍ा की जरूरत है कि एक हो जाए. दोनों दलों में विधानसभा चुनावों के लिए सीट बंटवारे की बातचीत के बीच यह मुलाकात हुई है. वहींं, राहुल गांधी  नेे कहा कि बीजेपी को हराने के लिए विपक्षी दल मिलकर काम करेंगे. राहुल ने कहा कि पार्टियां यह सुनिश्चित करने की दिशा में काम करेंगी कि लोकतांत्रिक संस्थानों पर हमला बंद हो. नायडू से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने यह बयान दिया.

बीजेपी के खिलाफ तीसरा मोर्चा खड़ा करने के लिए नायडू, पवार और फारुक मिले, दिल्‍ली में सियासी पारा चढ़ा

कांग्रेस अध्‍यक्ष से मुलाकात करने से पहले नायडू ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार और नेशनल कॉन्‍फ्रेंस नेता फारूक अब्‍दुल्‍ला से मुलाकात की थी. नायडू की सुबह इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर संयोग से कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद से भी मुलाकात हुई और दोनों ने सभी गैर-भाजपाई राजनीतिक दलों को साथ में लाने की जरूरत पर संक्षिप्त बातचीत की.

टीडीपी सुप्रीमो नायडू ने 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी का मुकाबला करने के लिए अखिल भारतीय गठबंधन बनाने के अपनी कोशिशों के तहत राहुल गांधी से मिलने से एनसीपी प्रमुख शरद पवार और नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारुक अब्दुल्ला से मुलाकात की.

नायडू दिल्‍ली में इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद से भी मिले और उन्होंने उनके साथ गैर बीजेपी दलों को साथ लाने की जरूरत के बारे में संक्षित चर्चा की. टीडीपी प्रमुख के इस मामले पर हफ्ते भर के अंदर ही उनकी यह दिल्ली की दूसरी यात्रा है.

बता दें कि पिछले ही हफ्ते नायडू ने कहा था कि राजनीतिक बाध्यता गैर भाजपा दलों को बीजेपी से मुकाबला करने के वास्ते तीसरा मोर्चा बनाने के लिए साथ आने को बाध्य करेगी.

आंध्रप्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने से केंद्र के इनकार के बाद इस साल के शुरू में राजग से अलग होने वाले पूर्व बीजेपी सहयोगी नायडू ने दिल्‍ली में बीते 27 अक्टूबर को बीएसपी सुप्रीमो मायावती, जम्मू कश्मीर नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारुक अब्दुल्ला, और पूर्व बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा से भेंट की थी.