नगालैंड में 27 फरवरी को हाेने वाले विधानसभा चुनावों का क्षेत्रीय दलों समेत बीजेपी और कांग्रेस जैसे राष्ट्रीय दलों ने बहिष्कार करने का फैसला किया है. सोमवार को राज्य की राजधानी कोहिमा में सभी राजनीतिक दलों की बैठक  हुई. इस बैठक में सभी दलों ने अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनावों के बहिष्‍कार का फैसला किया. राजनीतिक दलों ने विधानसभा चुनाव से पहले नगा समस्या के समाधान की मांग की है.Also Read - राष्ट्रपति चुनाव के लिए आज से वोटिंग शुरू। Watch Video

बता दें कि इस संबंध में 11 सियासी दलों के नेताओं ने लेटर पर हस्‍ताक्षर किए हैं. इस लेटर में लिखा है कि नगाओं को चुनाव नही समाधान चाहिए. इस लेटर में यह भी मांग की गई है कि सभी दल नगालैंड के भले के लिए आगे आएं. नगा समस्या का समाधान तलाश करें. Also Read - राष्ट्रपति चुनाव: राज्यवार देखें विधायकों के मत का मूल्य, यूपी टॉप पर, सबसे नीचे सिक्किम

इस बीच ‘नगालैंड ट्राइबल होहोज एंड सिविल आर्गनाइजेशंस’ की कोर कमिटी के संयोजक ने कहा कि पार्टियों ने 27 फरवरी को राज्य में होने वाले चुनाव में खड़े नहीं होने की हमारी मांग पर सहमति जताई है. Also Read - इस राज्य में कांग्रेस सामूहिक नेतृत्व में लड़ेगी 2023 का चुनाव, वरिष्ठ नेता बोले- बीजेपी को हराना मकसद

बता दें कि नागालैंड में अगले महीने की 27 तारीख को विधानसभा चुनाव होने है. 27 फरवरी को नगालैंड के साथ ही मेघालय में भी चुनाव होना है. अब देखना होगा कि इस समस्या का क्या समाधान निकलता है.