नई दिल्ली: नगालैंड के मुख्यमंत्री टी.आर. जेलियांग ने शनिवार को कहा कि अगर भाजपा चुनाव के बाद गठबंधन के लिए आगे आती है तो सत्तारूढ़ नगालैंड पीपुल्स फ्रंट(एनपीएफ) पार्टी भाजपा के साथ सरकार बनाने के लिए तैयार है. जेलियांग ने हालांकि नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) के साथ किसी भी गठबंधन की संभावना से इनकार कर दिया. वहीं दूसरी तरफ केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता किरेन रिजिजू ने शनिवार को कहा कि पार्टी अगर नगालैंड में नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) के साथ बहुमत का आंकड़ा पार नहीं कर सकी तो वह सत्तारूढ़ नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के साथ राज्य में तीन पार्टियों को मिलाकर सरकार बनाने की ओर आगे बढ़ेगी. Also Read - BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली के साथ बैठक करेंगे PM नरेंद्र मोदी; कोहली-तेंदुलकर के शामिल होने की उम्मीद

जेलियांग ने कहा, उनकी पार्टी साल 2003 से भाजपा गठबंधन का हिस्सा रही है. हम गठबंधन जारी रखेंगे. हम किसी भी समय अलग नहीं हुए थे. हमें उम्मीद है कि वे आगे बढ़ेंगे और हमारी सरकार में शामिल होंगे. उन्होंने कहा कि एनडीपीपी एक नई राजनैतिक पार्टी है और इसे अभी चुनाव आयोग से मान्यता मिलना बाकी है. एनडीपीपी के साथ हमारा कोई गठबंधन नहीं है. किसी भी समय एनडीपीपी को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई. Also Read - देशभर में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 2,500 के पार, मोदी ने प्रयास तेज करने का किया आह्वान

एनपीएफ सरकार में भाजपा के दो मंत्री हैं, लेकिन दोनों पार्टियों ने एक साथ चुनाव नहीं लड़ा था. भाजपा ने चुनाव से पहले एनडीपीपी के साथ गठबंधन कर लिया था. भाजपा और एनडीपीपी ने नेफियु रियो को अपना संयुक्त उम्मीदवार बनाया था. Also Read - केजरीवाल ने लोगों को गीता पाठ करने की दी सलाह, कहा- गीता के 18 अध्याय की तरह लॉकडाउन के बचे हैं 18 दिन 

गठबंधन की संभावना पर रिजिजू ने कहा कि भाजपा ने न तो एनपीएफ को त्यागा था और न ही एनपीएफ नीत सरकार से अलग हुई थी. उन्होंने कहा कि सीटों के बंटवारे को लेकर भाजपा और एनपीएफ में सहमति नहीं बन सकी थी, लेकिन नेफियु रियो के साथ इस तरह के समझौते को अंतिम रूप दिया गया था, जोकि एनपीएफ के संस्थापक सदस्य रहे हैं.

एनपीएफ ने भी एक प्रस्ताव पास कर कहा है कि वह भाजपा के साथ अपना गठबंधन जारी रखेगी. रिजिजू ने कहा कि मौजूदा सरकार में, भाजपा गठबंधन में है. हमारे पास टी.आर. जेलियांग सरकार में दो मंत्री हैं. इसलिए हम वहां पहले से ही हैं.

उन्होंने कहा कि एनपीएफ ने पहले ही प्रस्ताव पास कर दिया है और इस प्रस्ताव के पारित होने के बाद कोई मुद्दा नहीं बचा है.