Nagaland Violence: नागालैंड में हुई हिंसा में अब तक 13 लोगों की मौत हुई है. इनमें से 12 आम लोग हैं. जबकि एक सैनिक की जान जाने की भी खबर है. नागालैंड में हुई सुरक्षाकर्मियों की कार्रवाई में आम लोगों के मारे जाने के बाद, फिर इसके बाद हुई हिंसा को लेकर विपक्ष ने केंद्र पर निशाना साधा है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने नागालैंड में हुई हिंसा को लेकर केंद्र सरकार की आलोचना की है. राहुल गांधी ने नागालैंड में हुईं घटनाओं को हृदयविदारक बताया है. राहुल गांधी ने कहा कि ये वाकई दिल दुखाने वाली घटना है. भारत सरकार को इसका जवाब देना चाहिए.Also Read - UP Election 2022: योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में घर-घर मांगे वोट, कैराना और हज हाउस का ज़िक्र किया

राहुल गांधी ने कहा कि देश का गृह मंत्रालय आखिर क्या कर रहा है. देश में सैनिक और आम लोग दोनों ही सुरक्षित नहीं हैं. अपनी ही ज़मीन पर लोगों को ये सब झेलना पड़ रहा है. राहुल गांधी ने ट्विटर पर इस घटना को लेकर लिखा और सरकार की आलोचना की. राहुल गांधी ने कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए. राहुल गांधी के अलावा पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी और असदुद्दीन ओवैसी ने भी घटना की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है. Also Read - Netaji Subhash Chandra Bose की 125वीं जयंती : राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने दी श्रद्धांजलि, ममता ने कहा- राष्ट्रीय अवकाश घोषित करें

बता दें कि नागालैंड के मोन जिले में आम लोग एक गाड़ी में अपने घरों के लिए लौट रहे थे. इसी दौरान सुरक्षाकर्मियों ने गोलियां चलाईं, जिसमें मौके पर ही 6 लोगों की मौत हुई. सेना की टुकड़ी यहां गश्त कर रही थी. आम लोगों के मारे जाने की खबर के बाद नागालैंड में हिंसा हुई. सेना से झड़प में करीब सात और आम लोगों की मौत हुई. जबकि बताया जा रहा है कि एक सैनिक की भी जान गई. नागालैंड का मोन जिला म्यांमार की सीमा के पास है. Also Read - Uttarakhand Assembly Election 2022: कांग्रेस ने उत्तराखंड के लिए 53 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी की, हरिश रावत का नाम नहीं शामिल