देहरादून: नैनीताल हाईकोर्ट ने सोमवार को एक अहम फैसला सुनाते हुए हरीश रावत की विधानसभा सीट समेत 6 विधानसभा क्षेत्रों की ईवीएम सील करने का आदेश दिया है. हाईकोर्ट ने कहा है कि 48 घंटे के अंदर सभी ईवीएम सील कर दिए जाएं. इसके साथ ही सभी राजनीतिक दलों से 6 हफ्ते के अंदर जवाब देने को कहा है. आपको बता दें कि सभी ईवीएम से छेड़खानी की शिकायत के बाद हाईकोर्ट ने सील करने के आदेश दिए हैं. Also Read - सीएम कमलनाथ का दावा, भाजपा के पैदा किए गए संकट में कांग्रेस की होगी जीत

इन 6 विधानसभा सीटों में EVM सील
जिन छह विधानसभा सीटों की ईवीएम सील करने के आदेश दिए गए हैं उनमें मसूरी, राजपुर, रायपुर, रानीपुर, हरिद्वार ग्रामीण सीट और प्रतापपुर सीटें हैं.इससे पहले विकास नगर सीट की ईवीएम सील करने के आदेश दिए जा चुके हैं. Also Read - कांग्रेस के संपर्क में हैं बागी विधायक, वो भाजपा के साथ नहीं जाएंगे: हरीश रावत

शिकायतकर्ताओं की पैरवी करने वाले अधिवक्ता डीपी नौटियाल के मुताबिक हाईकोर्ट ने 48 घंटे के अंदर न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने सभी ईवीएम को स्ट्रांग रूम में सुरक्षित रखने के आदेश दिए हैं. हरिद्वार ग्रामीण सीट से पूर्व सीएम हरीश रावत कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे थे. उन्हें भाजपा उम्मीदवार यतीश्वारानंद ने हराया था. Also Read - हरीश रावत छोड़ेंगे राजनीति! ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने महासचिव पद से इस्‍तीफा दिया

ईवीम में टैंपरिंग, हैकिंग के लगे आरोप
अधिवक्ता डीपी नौटियाल ने बताया कि शिकायत में ईवीएम की टैंपरिंग और हैकिंग के आरोप लगाए गए हैं. नौटियाल के मुताबिक आरोप काफी गंभीर हैं. कुछ ईवीएम हैकर्स के मोबाइल नंबर भी हाईकोर्ट में पेश किए गए हैं. इसके अलावा कोर्ट में ईवीएम में गड़बड़ियां साबित करने वाले कईँ सबुत रखे गए हैं. मामले की गंभीरता को देखते हुए ही न्यायमूर्ति सर्वेश कुमार गुप्ता ने सभी छह विधानसभा क्षेत्रों की ईवीएम सील करने के आदेश दिया है.

हार के बाद दर्ज की थी शिकायत 
बता दें कि 11 मार्च को आए उत्तराखंड विधानसभा चुनाव परिणाम आए थे, जिनमे  6 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की थी. देहरादून, हरिद्वार और टिहरी जिले की 6 सीटों पर हारे हुए प्रत्याशियों ने नैनीताल हाईकोर्ट में ईवीएम में टैम्परिंग की शिकायत की थी. जिसके बाद सोमवार को हाईकोर्ट ने छह विधानसभा क्षेत्रों की सभी ईवीएम को सील करने का आदेश दिया है.