अहमदाबाद: गुजरात की एक अदालत ने शुक्रवार को जेल में बंद प्रवचनकर्ता आसाराम के बेटे नारायण सांई को बलात्कार के एक मामले में दोषी पाया है. सूरत की एक सत्र अदालत अब उसे इस मामले में 30 अप्रैल को सजा सुनायेगी. Also Read - Telangana: रेप की कोशिश का विरोध करने पर जलाई गई 13 साल की लड़की ने अस्पताल में दम तोड़ा

  Also Read - नवरात्रि आयोजन को लेकर सीएम विजय रूपाणी ने कहा- जनता का स्वास्थ हमारे लिए बड़ी प्राथमिकता है

सूरत की दो बहनों ने 2013 में पुलिस में दर्ज अपनी शिकायत में आरोप लगाया था कि आसाराम बापू और नारायण सांई ने उनके साथ बलात्कार किया. इनमें से एक पीड़िता ने आरोप लगाया कि जब वह आश्रम में रह रही थी तो 2002 से 2005 के बीच नारायण सांई ने उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया. आसाराम जोधपुर में बलात्कार के एक दूसरे मामले में दोषी पाया जा चुका है और वह आजीवन कारावास की सजा भुगत रहा है.

जेल में बंद है पिता आसाराम
आसाराम और उसके बेटे नारायण साई पर गुजरात के सूरत में दो बहनों के साथ दुष्कर्म करने का आरोप है. बड़ी बहन ने आसाराम पर 1997 और 2006 में अहमदाबाद स्थित मोटेरा आश्रम में यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया, जबकि छोटी बहन ने आसाराम के बेटे नारायण साई पर यही आरोप लगाए. बता दें कि जोधपुर की एक विशेष अदालत ने 25 अप्रैल 2018 को आसाराम को 2013 में राजस्थान के अपने आश्रम में एक नाबालिग से दुष्कर्म करने के मामले में भी दोषी पाया था और आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी.