Also Read - जानें क्या है 10 हजार करोड़ का आयुष्मान सहकार फंड, जिसे केंद्र सरकार ने किया लॉन्च

गुवाहाटी, 29 नवंबर | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को मेघालय के मेंदिपाथर से गुवाहाटी के बीच चलने वाली पहली यात्री रेलगाड़ी को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस तरह मेघालय भी रेलवे के मानचित्र पर दर्ज हो गया। मोदी यहां शनिवार को पहुंचे। उन्होंने भैरबी से मिजोरम के सैरंग तक रेलवे की बड़ी लाइन की आधारशिला भी रखी। Also Read - पीएम मोदी बोले- भारत ने सबसे पहले लगाया लॉकडाउन इसलिए आ रही करोना के मामलों में कमी

गुवाहाटी स्थित रेलवे स्टेडियम में हजारों लोगों की भीड़ को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, “वास्तु शास्त्र का दावा है कि अगर कोई ईशान (पूर्वोत्तर) कोण को व्यवस्थित रखता है, तो घर की समृद्धि बढ़ती है। उसी प्रकार मेरा मानना है कि यदि हम भारत के पूर्वोत्तर को व्यवस्थित रखेंगे, तो यह देश के बाकी हिस्सों के लिए मददगार होगा।” Also Read - प्रधानमंत्री ने कोविड-19 लड़ाई में ढिलाई के खिलाफ चेताया, टीका वितरण के वास्ते पूरी तैयारी रखने के दिये निर्देश

प्रधानमंत्री बनने के बाद यहां की यात्रा पर पहली बार आए मोदी ने कहा कि आधारभूत संरचना विकास की कुंजी है। उन्होंने कहा, “यदि हम क्षेत्र की आधारभूत संरचना का विकास करें, तो विकास अपने आप होगा। यदि रेल तथा सड़क संपर्क जैसी आधारभूत सुविधाओं का विकास किया जाता है, तो पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास की नई ऊंचाइयों को छुएगा।”

मोदी ने इस क्षेत्र के आठों राज्यों की तुलना आस्था लक्ष्मी से करते हुए कहा कि आस्था लक्ष्मी का समुचित विकास क्षेत्र के अन्य हिस्सों के विकास में मदद होगा। अपने हालिया म्यांमार दौरे का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि पूर्वोत्तर तथा म्यांमार के बीच रेल संपर्क मुद्दे को वह म्यांमार के साथ पहले ही उठा चुके हैं।

उन्होंने कहा, “एक बार जब यह क्षेत्र अन्य एशियाई देशों से जुड़ जाएगा, तो रोजगार की तलाश के लिए इस क्षेत्र के युवाओं को बांग्लादेश तथा अन्य जगहों पर नहीं जाना पड़ेगा।” प्रधानमंत्री ने रेलवे के आधुनिकीकरण पर भी जोर दिया और कहा कि उनकी सरकार ने रेलवे में निजी निवेश को आमंत्रित करने का फैसला लिया है। साथ ही आर्थिक रूप से व्यवहार्य बनाने के लिए रेलवे स्टेशनों का निजीकरण करने का भी फैसला लिया है।

मोदी ने कहा, “मैं रेलवे को लंबवत तथा क्षैतिज दोनों ही रूपों में विकसित करना चाहता हूं।” उन्होंने कहा, “जब रेलवे नेटवर्क का ज्यादा से ज्यादा क्षेत्रों तक प्रसार होगा, तो सेवाओं को भी उन्नत किया जाएगा।” मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने देश में चार रेलवे विश्वविद्यालयों की स्थापना करने का फैसला किया है।