नई दिल्‍ली. अगर आप 80 किलोमीटर प्रति घंटा से ज्यादा स्पीड में कार चलाते हैं, तो यह खबर आपके काम की है. ओवर स्पीडिंग के कारण होने वाली सड़क दुर्घटनाओं की बढ़ती संख्या पर अंकुश लगाने के लिए सरकार अगले तीन से छह महीने में एक नया कदम उठाने जा रही है. Also Read - इंटरव्यू: चिदंबरम ने कहा- BJP देश में निरंकुशता और नियंत्रण युग वापस लाएगी, देश पीछे जाएगा

Also Read - संविधान दिवस पर पीएम मोदी ने किया 'इमरजेंसी' को याद, बोले- समय के साथ महत्व खो चुके कानूनों को हटाना जरूरी

सरकार की नई योजना के तहत सड़क पर 80 से ज्यादा स्पीड में गाड़ी चलाते ही गाड़ी का अलार्म बजने लगेगा. यह अलार्म तब तक बजता रहेगा, जब तक कि आप गाड़ी की स्पीड कम ना कर लें. सड़क एवं यातायात मंत्रालय यह योजना कार बनाने वाली कंपनियों के साथ मिलकर बना रही है और इसके लिए फाइनल ड्राफ्ट भी तैयार कर लिया है. बता दें कि देश में सलाना 5 लाख से ज्यादा एक्सीडेंट होते हैं. Also Read - लखनऊ विश्वविद्यालय का शताब्दी समारोह: पीएम मोदी ने 100 साल के स्मारक सिक्के का अनावरण किया, डाक टिकट भी जारी

ड्राफ्ट के अनुसार मेन्यूफैक्चरर्स कार को बनाते वक्त ही उसमें स्पीड अलर्ट सिस्टम लगाएंगे. ताकि ओवरस्पीड होने पर ऑटोमेटिक अलार्म बज सके. हालांकि पुलिस की गाड़ियों, एंबुलेंस आदि को इसमें छूट दी गई है. यही नहीं नये ड्राफ्ट के तहत ड्राइवर और उसकी बगल सीट पर बैठा व्यक्ति जब तक सीट बेल्ट नहीं बांध लेता, तब तक अलार्म बजता ही रहेगा.

कार में यदि एयरबैग हो तो एक्सिडेंट के बावजूद कार में सवार व्यक्ति को दुर्घटना से बचाए जाने की संभावना ज्यादा होती है. लिहाजा नये ड्राफ्ट में एयरबैग की अनिवार्यता पर भी जोर दिया गया है. कई बार गाड़ी पीछे करने क दौरान भी टक्कर हो जाती है. ऐसे में गाड़ियों में ऐसा सेंसर लगा होगा, जो किसी वस्तु या व्यक्ति के निर्धारित रेंज में आने पर बजने लगेगा.

मंत्रालय ने फाइनल ड्राफ्ट अपनी वेबसाइट पर अपलोड किया है. इस ड्राफ्ट पर 19 अप्रैल तक आप कमेंट कर सकते हैं.