नई दिल्ली. अविश्वास प्रस्ताव पर दिनभर चली चर्चा के जवाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा. उन्होंने राहुल गांधी की एक्टिंग करते हुए कहा कि उनका अहंकार था कि वह यहां आकर कह रहे थे, “उठो, उठो, उठो.” उन्होंने कहा कि इतनी भी जल्दी क्या है. यहां तो देश की जनता पहुंचाती है. यहां सवा सौ करोड़ जनता पहुंचाती है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, लोकतंत्र में जनता ही सर्वोपरी होती है. जनता ही उसे यहां पहुंचाती है. Also Read - राहुल गांधी ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, बोले- अचानक बंद होने से भय और भ्रम पैदा हो गया है

पीएम मोदी ने कहा, आज का पूरा माहौल ये दिखा रहा था कि कुछ लोगों को कैसे नकारात्मक राजनीति ने घेर रखा है. इन सभी का चेहरा सज-धज के बाहर आ गया है. उन्होंने कहा कि संख्या बल और बहुमत न होने के बावजूद अविश्वास प्रस्ताव इसलिए लाया गया कि क्योंकि सरकार गिराने का उतावलापन है. उन्होंने राहुल गांधी के भूकंप वाले बयान को भी कोट करते हुए कहा कि इस पर चर्चा नहीं होगी तो भूकंप आ जाएगा.

पीएम ने कहा, कांग्रेस सरकार पर जितना अविश्वास करती है कम से कम उतना विश्वास अपने संभावित साथियों पर करे तो बेहतर है. उन्होंने कहा कि हम यहां पर इसलिए हैं क्योंकि हमारे पास संख्याबल है. हमारे साथ 125 करोड़ देशवासियों की संख्या है.

बता दें कि अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान राहुल गांधी ने करीब 30 मिनट तक मोदी सरकार को घेरा था. इस दौरान वह अपनी भाषण की समाप्ति के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास जाकर उनसे गले मिल लिए. ये इतना जल्दी हुआ कि प्रधानमंत्री भी कुछ समझ नहीं पाए. उन्हें जैसे ही स्थिति समझ में आई तो उन्होंने राहुल को फिर से बुलाया और हाथ मिलाकर उनसे कुछ कहा. प्रधानमंत्री के पास से आकर राहुल गांधी अपनी सीट पर बैठें. इस दौरान वह अपने बगल में बैठे ज्योतिरादित्य सिंधिया को आंख मारते देखे गए.