हांगझू, 4 सितम्बर (आईएएनएस)| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) का मुद्दा उठाया और कहा कि भारत तथा चीन को एक-दूसरे के सामरिक हितों के प्रति संवेदनशील होना होगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने यहां भारतीय संवाददाताओं से कहा कि हांगझू शहर में जी-20 शिखर सम्मेलन के इतर शी के साथ 35 मिनट की मुलाकात के दौरान मोदी ने कहा, “दोनों देशों को एक-दूसरे की आकांक्षाओं, चिंताओं और सामरिक हितों का सम्मान करना चाहिए।”

यह भी पढेंः जी-20 शिखर सम्मेलन में शामिल होने चीन गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यात्रा के मायने

स्वरूप से जब पूछा गया कि क्या सीपीईसी क्षेत्र से बढ़ रहे आतंकवाद पर चर्चा हुई तो उन्होंने कहा, “यह मुद्दा उठाया गया था।” 46 अरब डॉलर की लागत वाला निर्माणाधीन चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा अशांत बलूचिस्तान, गिलगिट-बल्टिस्तान और पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से होकर गुजरता है। भारत ने इस परियोजना का जोरदार विरोध किया है, क्योंकि वह गिलगिट-बल्टिस्तान और पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर पर अपना दावा करता है।