नई दिल्ली: केंद्र सरकार के कृषि बिल के विरोध में किसान पिछले लगभग एक महीने से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. इस बीच बुधवार को कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि किसान यूनियन सरकार के अनुरोध पर जरूर चर्चा करेंगें. उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि बहुत जल्द ही इस किसानों की आशंकाएं मिट जाएंगी और जल्द ही इसका कोई न कोई समाधान जरूर निकल आएगा. Also Read - दिल्ली पुलिस ने आधिकारिक रूप से दी 'किसान ट्रैक्टर परेड' की इजाजत, तीन जगहों से निकलेगी रैली

गौरतलब है कि पंजाब, यूपी, राजस्था सहित कई राज्यों के किसान पिछले 28 दिनों से दिल्ली और उसकी सीमाओं पर जुटे हुए हैं. किसान यूनियन लगातार कृषि बिल को वापस लेने की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार पहले ही स्पष्ट कर चुकी है कि कृषि बिल किसी भी हालात में वापस नहीं होंगे हालांकि सरकार इसमें संशोधन करने के लिए तैयार है. केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार हर प्रकार से किसानों के साथ बात करने के लिए तैयार है. Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए मुंबई को निकले महाराष्ट्र के हजारों किसान, आजाद मैदान में करेंगे रैली

आज बुधवार को उन्होंने कहा कि हम किसान अगर कृषि बिल में कुछ राय देना चाहते हैं तो दें, अगर वो बिल में कुछ घटना या किसी भी प्रकार का कोई बदलाव करना चाहते हैं तो इस बारे में बात करें और अपनी राय दें, हम बिल में संशोधन के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की सुविधा के लिए किसी भी तारीख में बात करने को तैयार है.

उल्लेखनीय है कि तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की अपनी मांग से पीछे हटने से किसान संगठनों के इनकार करने के बाद बने गतिरोध के बीच नौ दिसंबर को छठे दौर की वार्ता रद्द हो गयी थी। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे उम्मीद है प्रदर्शनकारी किसान संघ जल्द अपनी आंतरिक वार्ता पूरी करेंगे और सरकार के साथ बातचीत के लिए आगे आएंगे. हम सफलतापूर्वक समाधान निकाल सकेंगे.’’