नई दिल्ली. अपने बयान को लेकर फिल्म एक्टर नसीरुद्दीन शाह इन दिनों काफी चर्चा में हैं. इस बीच उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को भी नसीहत देते हुए कहा है कि उन्हें अपना देश संभालना चाहिए. अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए उन्होंने कहा, इमरान खान को मालूम होना चाहिए कि 70 साल के लोकतंत्र में भारत को अपने समाज की सुरक्षा करना आता है. बता दें कि नसीरुद्दीन शाह के बयान पर विवाद होने के बाद इमरान खान ने कहा था कि वह भारत को दिखाएंगे कि अल्पसंख्यकों के साथ कैसा व्यवहार होता है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार यह सुनिश्वित करेगी कि अल्पसंख्यक सुरक्षित, संरक्षित महसूस करें और उन्हें ‘नए पाकिस्तान’ में समान अधिकार हों. उन्होंने शाह के बयान की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘‘हम मोदी सरकार को दिखाएंगे कि अल्पसंख्यकों के साथ कैसे व्यवहार करते हैं…, भारत में लोग कह रहे हैं कि अल्पसंख्यकों के साथ समान नागरिकों की तरह व्यवहार नहीं हो रहा है.’’ पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा कि यदि कमजोर को न्याय नहीं दिया गया तो इससे विद्रोह ही उत्पन्न होगा.

नसीरुद्दीन शाह ने दिया था ये बयान
बता दें कि इससे पहले नसीरुद्दीन शाह ने हाल ही में भीड़ द्वारा की गई हिंसा का प्रत्यक्ष हवाला देते हुए कहा कि एक गाय की मौत को एक पुलिस अधिकारी की हत्या से ज्यादा तवज्जो दी जा रही है. उनके इस बयान के लिए लोग उन्हें ट्रोल कर रहे हैं. उनका कहना है कि ‘जहर पहले ही फैल चुका है’ और अब इसे रोक पाना मुश्किल होगा. उन्होंने कहा, इस जिन्न को वापस बोतल में बंद करना मुश्किल होगा। जो कानून को अपने हाथों में ले रहे हैं, उन्हें खुली छूट दे दे गई है। कई क्षेत्रों में हम यह देख रहे हैं कि एक गाय की मौत एक पुलिस अधिकारी की मौत से ज्यादा अहम है.

बच्चों के लिए चिंतित
नसीर ने अपने साक्षात्कार में कहा था, मैं अपने बच्चों के लिए चिंतित हूं क्योंकि कल को अगर भीड़ उन्हें घेरकर पूछती है, ‘तुम हिंदू हो या मुसलमान?’ तो उनके पास इसका कोई जवाब नहीं होगा. यह मुझे चिंतित करता है और मुझे नहीं लगता कि इन हालात में जल्द कोई सुधार होगा. ये सभी चीजें मुझे डराती नहीं हैं बल्कि गुस्सा दिलाती हैं और मैं मानता हूं कि सही सोचने वाले हर व्यक्ति को गुस्सा होना चाहिए न कि डरना चाहिए. यह हमारा घर है और किसकी हिम्मत है जो हमें हमारे घर से निकाले.’