नेशनल हेराल्ड मामले में पटियाला हाउस कोर्ट से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को राहत मिल गयी है। कोर्ट ने सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका खारिज कर दी है। साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा कि स्वामी को कांग्रेस और एसोसिएट जर्नल लिमिटेड की बैलेंस शीट और आयकर संबंधी दस्तावेज नहीं मिलेंगे।

दरअसल सुब्रमण्यम स्वामी ने अर्जी दी थी कि कांग्रेस पार्टी और एसोसिएट जर्नल लिमिटेड (एजेएल) के अकाउंट और बैलेंस शीट से जुड़े दस्तावेजों को स्वामी को दिया जाए। स्वामी का तर्क था कि इन दस्तावेजों से ये साबित करना आसान होगा कि करोड़ों रुपये की हेराफेरी कैसे की गई।

गौरतलब है कि नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी को लेकर पटियाला हाउस कोर्ट को अहम फैसला सुनाना था। कोर्ट को यह तय करना था कि बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी को कांग्रेस पार्टी की 2010-11 की बैलेंस शीट, आयकर रिटर्न और एसोसिएट जर्नल लिमिटेड के वित्तीय दस्तावेज बतौर सुबूत दिए जाएं या नहीं।
यह भी पढ़ें: विस्तार से जानें क्या है नेशनल हेराल्ड मामला

इस बीच फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि वे इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देंगे। इसके अलावा स्वामी ने कहा कि 10 फरवरी को अगली सुनवाई के दौरान वे गवाहों की सूची भी अदालत को सौंपेंगे।

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने आरोप लगाया कि हेराल्ड की संपत्ति को गलत ढंग से इस्तेमाल में लिया गया है। जिसके बाद स्वामी इस मामले को साल 2012 में कोर्ट तक खींच ले गए। पिछले कई साल से सुब्रमण्यम स्वामी इस मामले को लेकर लगातार गांधी परिवार को घेरते रहे हैं।