Nationwide Lockdown: देश में कोरोना महामारी अपने चरम पर पहुंच चुका है. ऐसे में केंद्र व राज्य सरकारों द्वारा एहतियात के तौर पर लगातार सरकारों द्वारा प्रयास किए जा रहे हैं. लगातार मरने वालों और संक्रमितों की संख्या में वृद्धि हो रही है. ऐसे में कोरोना की चैन को तोड़ने के लिए संभावना जताई जा रही है कि पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन लगाया जा सकता है. साथ ही देश में हालात से निपटने की जिम्मेदारी अब सेना को दी जा सकती है. Also Read - कोवैक्सीन में गाय के बछड़े के सीरम का होता है इस्तेमाल? जानें क्या है सोशल मीडिया पर किए जा रहे दावे की सच्चाई

सरकार का जवाब Also Read - Retail Sales in India: कोरोना की दूसरी लहर से खुदरा बिक्री को लगा झटका, मई में बिक्री 79 प्रतिशत नीचे गिरी

देश में कोरोना महामारी के मद्देनजर क्या देश में लॉकडाउन लगाया जाएगा? इस सवाल के जवाब पर नीति आयोग के सदस्य और कोविड 19 टास्क फोर्स के अध्यक्ष वीके पॉल ने कहा कि केंद्र सरकार कोरोना की चैन को तोड़ने के लिए राज्य सरकारों को दिशानिर्देश दे चुकी है. उन्होंने कहा कि देश में वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है. ऐसे में लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है. Also Read - Archaeological Survey of India: देश में ऐतिहासिक धरोहरों को खोलने का आदेश, जानें कब से होगा ताज का दीदार

उन्होंने कहा कि 29 अप्रैल को केंद्र सरकार द्वारा इस बाबत दिशानिर्देश जारी किया गया था. इस दिशानिर्देश में कोरोना को रोकने व इसपर नियंत्रण करने को लेकर निर्देश दिए गए थे. पॉल ने आगे कहा कि राज्यों को कहा गया है कि जिन राज्यों में संक्रमण का आंकड़ा 10 फीसदी सेअधिक है वहां नाइट कर्फ्यू लगाया जाए. साथ ही सार्वजनिक, सामाजिक, धार्मिक व राजनीतिक कार्यक्रमों पर रोक लगाई जाए. इस दौरान शॉपिंग मॉल्स, रेस्टोरेंट, स्वीमिंग पूल, स्पा इत्यादि सब बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं.

बता दें कि कोरोना के भीषण लक्षण अब दक्षिण भारत के कई राज्यों में भी दिखने लगे हैं. केरल सरकार द्वारा इस बाबत लॉकडाउन का ऐलान भी कर दिया गया है. यह लॉकडाउन 8 मई से 16 मई तक जारी रहेगा. जो सुबह 6 बजे से शुरू होगा.