नई दिल्ली: पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने पाकिस्तान में खालिस्तान समर्थक नेता के साथ एक तस्वीर में अपनी मौजूदगी से उठे सवालों को तवज्जो नहीं दी जबकि शिरोमणि अकाली दल ने उन पर तीखा हमला करते हुए पूछा कि ‘भारत उनकी प्राथमिकता में है या नहीं ?’ करतारपुर गलियारे के लिए पाकिस्तान में शिलान्यास समारोह के दौरान अलगाववादी गोपाल सिंह चावला के साथ की तस्वीर के कारण शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने सिद्धू पर तीखा हमला किया है. चावला पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (पीएसजीपीसी) का महासचिव है और खालिस्तान के समर्थन में बोलता हैं. उसने अपने फेसबुक पेज पर कथित तस्वीर साझा की है. Also Read - क्या Farmers Protest में हो रही विदेशी फंडिंग? इन अलगाववादी संगठनों पर एजेंसियों की नजर

शिरोमणि अकाली दल के बाद बीजेपी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने न केवल तीखा हमला बोला है बल्कि सिद्दू को गिरफ्तार करने की मांग की है. उन्होंने कहा- आप कहते हैं कि मुझे खालिस्तान से कोई लेना देना नहीं है और इसकी निंदा करते हैं. इस मामले में नवजोत सिंह सिद्धू की जांच एनआईए (राष्ट्रीय जांच एजेंसी) द्वारा की जानी चाहिए और राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत उन्हें गिरफ्तार किया जाना चाहिए. Also Read - 26 जनवरी को परेड निकालेंगे प्रदर्शनकारी किसान, बोले- आंदोलन का समर्थन करने वालों के खिलाफ मामले दर्ज कर रही NIA

वीजा मुक्त कॉरिडोर के लिए शिलान्यास समारोह में शिरकत करने के बाद सिद्धू गुरूवार को वतन लौटे. पड़ोसी देश से वापस आने पर सिद्धू ने कहा, उन्होंने वहां काफी प्यार जताया. हर दिन दस हजार तस्वीरें ली जाती हैं. उनमें चावला या चीमा कौन है मैं नहीं जानता. उन्होंने कहा कि कॉरिडोर बनाने के लिए भारत और पाकिस्तान के ऐतिहासिक फैसले से गुरू नानक देव के 12 करोड़ अनुयायियों का सपना हकीकत बना है.

प्रेस सम्मेलन में उन्होंने कहा कि रिश्तों के बीच जमी बर्फ पिघली है. संवाददाता सम्मेलन में सिद्धू के साथ सौरभ मदान भी नजर आए . सौरभ मदान अमृतसर में दशहरा कार्यक्रम के आयोजक हैं. पिछले महीने इसी आयोजन के दौरान ट्रेन से कुचले जाने से 60 लोगों की मौत हो गयी थी. सिद्धू ने कहा, ‘मैं दो पंजाबों में दिलों को जोड़कर लौटा हूं.’

गोपाल सिंह चावला करतारपुर समारोह में पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा से हाथ मिलाते हुए भी नजर आया. निरंकारी भवन पर ग्रेनेड हमले का जिक्र करते हुए शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने गुरूवार को कहा, “अमृतसर (निरंकारी भवन पर) में हुए आतंकवादी हमले और गोपाल चावला के बीच संबंध है.

उन्होंने कहा अगर सिद्धू उसके साथ हाथ मिलाते हैं या उसके साथ किसी भी गतिविधि में साझेदारी करते हैं, तो उन्हें यह स्पष्ट करने के लिए जवाब देना होगा कि उनकी प्राथमिकता देश है या कुछ और ?’ सुखबीर ने कहा कि सिद्धू को यह पता होना चाहिए कि पंजाब में नशे के दलदल के पीछे पाकिस्तान का हाथ है. उन्होंने कहा, “हमारे युवाओं को मारे जाने के पीछे जनरल बाजवा हैं जिनसे वह हाथ मिलाते हैं.

बहरहाल, करतारपुर समारोह में शिरकत करने वाले दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन समिति के पूर्व प्रमुख परमजीत सिंह सरना ने दावा किया कि सिद्धू ने कई बार चावला की अनदेखी की. अटारी में सरना ने कहा, ‘लेकिन वह (चावला) उनके साथ एक तस्वीर खिंचवाने में कामयाब रहा.