नयी दिल्ली: पंजाब कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू को शनिवार को पाकिस्तान में होने वाले करतारपुर गलियारा उद्घाटन समारोह में शामिल होने की राजनीतिक मंजूरी सरकार से मिल गई. आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा निमंत्रण मिलने के बाद सिद्धू ने विदेश मंत्रालय से कार्यक्रम में शामिल होने की इजाजत मांगी थी.

 

बता दें कि पाकिस्तान से निमंत्रण स्वीकार करने के बाद पंजाब के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने बीते दिनों विदेश मंत्री एस. जयशंकर से करतारपुर गलियारे के उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए सरकारी मंजूरी मांगी थी. सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की 550वीं जयंती से तीन दिन पहले यह समारोह आयोजित होगा. इमरान खान सरकार द्वारा नौ नवंबर को करतारपुर गलियारे (कॉरिडोर) के उद्घाटन में भाग लेने के लिए सिद्धू को आमंत्रित किया गया है. सूत्र ने कहा कि सिद्धू को नौ नवंबर को करतारपुर साहिब गलियारा की यात्रा की राजनीतिक मंजूरी दे दी गई है. उधर, पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मुहम्मद फैसल ने गुरुवार को प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा कि भारतीय राजनेता नवजोत सिंह सिद्धू को करतारपुर की यात्रा के लिए पाकिस्तान ने वीजा जारी कर दिया है.

पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने कहा- बिना पासपोर्ट के एक साल तक करतारपुर आ सकेंगे श्रद्धालु

श्रद्धालु बिना पासपोर्ट के एक साल तक करतारपुर आ सकेंगे: पाकिस्तान विदेश मंत्रालय
पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को साफ किया कि करतारपुर गुरुद्धारे आने वाले श्रद्धालुओं को पासपोर्ट लाने से छूट दी गई है और वे अगले एक साल तक बिना पासपोर्ट करतारपुर यात्रा कर सकेंगे. मंत्रालय ने कहा है कि पाकिस्तान ने बाबा गुरु नानक के 550वें प्रकाशोत्सव के अवसर पर श्रद्धालुओं के लिए सद्भावना के तहत यह फैसला किया है. गौरतलब है कि इससे पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि इस साल 12 नवंबर को मनाए जाने वाले बाबा गुरु नानक के प्रकाशोत्सव के अवसर पर करतारपुर आने वाले श्रद्धालुओं के लिए पासपोर्ट की बाध्यता नहीं होगी. लेकिन, इसके बाद सेना के प्रवक्ता ने यह बयान दिया कि करतारपुर आने वाले श्रद्धालुओं को अपने साथ पासपोर्ट लाना होगा. (इनपुट एजेंसी)

अमृतसर में इमरान खान के साथ नवजोत सिंह सिद्धू के लगे पोस्टर, बताया करतारपुर का असली हीरो