नई दिल्ली: अपने पाकिस्तान दौरे को लेकर कांग्रेस नेता और पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू चर्चा में हैं वही उनके बयानों की भी खूब चर्चा हो रही है. वह कांग्रेस के स्टार प्रचारकों में से एक हैं. राजस्थान में चुनाव प्रचार के दौरान सिद्धू ने एक बयान दिया है जिसे लेकर विवाद हो सकता है. कोटा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए नवजोत सिंह ने कहा कांग्रेस ने चार गांधी दिए. इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी और राहुल गांधी. बीजेपी ने हमें तीन मोदी दिए. नीरव मोदी, ललित मोदी और नरेंद्र मोदी जो अंबानी की गोद में बैठे हैं.

गौरतलब है कि नवजोत सिंह कांग्रेस पार्टी के अंदर ही नेताओं के निशाने पर आ गए हैं. पंजाब के तीन मंत्रियों ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के खिलाफ टिप्पणी करने को लेकर राज्य मंत्रिमंडल से नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे की मांग की. यह सारा विवाद करतारपुर गलियारे के शिलान्यास कार्यक्रम में शरीक होने के लिए सिद्धू की पाकिस्तान यात्रा से पैदा हुआ है.

विवाद तब और गहरा गया जब सिद्धू ने ट्वीट किया, ‘‘तथ्यों को तोड़-मरोड कर पेश करने से पहले आप तथ्यों को सही कर लें. राहुल गांधी जी ने मुझसे पाकिस्तान जाने को कभी नहीं कहा. पूरी दुनिया जानती है कि मैं (पाकिस्तानी)प्रधानमंत्री इमरान खान के निजी न्यौते पर पाकिस्तान गया.’’ एक दिन पहले हैदराबाद में सिद्धू से जब संवाददाताओं ने मुख्यमंत्री की मंजूरी के बगैर पाकिस्तान जाने के बारे में पूछा था, तब उन्होंने कहा था, ‘राहुल गांधी मेरे ‘कप्तान’ हैं. उन्होंने ही मुझे पाकिस्तान भेजा. राहुल गांधी कैप्टन (अमरिंदर सिंह) के भी कैप्टन हैं.’

इस पर पंजाब के मंत्रियों ने कहा है कि यदि सिद्धू अमरिंदर सिंह को अपना कैप्टन नहीं समझते हैं तो उन्हें मुख्यमंत्री की टीम छोड़ देनी चाहिए. हैदराबाद में दिये गये बयान को लेकर सिद्धू पर ग्रामीण एवं विकास मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा, राजस्व एवं पुनर्वास मंत्री सुखविंदर सिंह सरकारिया और खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी ने प्रहार किया है. हालांकि विवाद होने के बाद सिद्दू की पत्नी सामने आईं और उन्होंने कहा कि नवोजत सिंह ने हमेशा कहा है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह उनके पिता के समान हैं. हमने हमेशा कैप्टन का सम्मान किया है. सिद्धू के बयान को उसी संदर्भ में देखा जाना चाहिए.