पंजाब विधानसभा में ऐतिहासिक जीत के बाद नवजोत सिंह सिद्धू मीडिया से मुखातिब हुए। सिद्धू ने जीत का श्रेय जनता को देते हुए कहा कि मैं राहुल गांधी और कांग्रेस का छोटा सा सिपाही हूं। हमने मिलकर दुष्टों का अंहकार तोड़ा है। नवजोत सिंह सिद्धू ने अमृतसर सीट से अपनी दावेदारी की थी। सिद्धू को रिकॉर्ड 39 हजार सात सौ बारह वोट मिले। सिद्धू ने अपने विरोधियों को पछाड़ते हुए 28 हजार से भी ज्यादा वोटों  से जीत हासिल की।

इस ऐतिहासिक जीत के बाद सिद्धू ने कहा कि मैं राहुल गांधी और कांग्रेस का छोटा सा सिपाही हूं, हमने मिलकर दुष्टों का अहंकार तोड़ा है। उन्होंने अपनी पत्नी और कार्यकर्ताओं को जीत का श्रेय देते हुए कहा कि मैं पूरे पंजाब में अपनी पत्नी और कार्यकर्ताओं की वजह से पूरे पंजाब में कैंपेन कर सका। यह भी पढ़ें: पंजाब चुनाव नतीजे LIVE : अमरिंदर ने दिलाया कांग्रेस को प्रचंड बहुमत, आप निकली अकाली से आगे

 

सिद्धू ने अमृतसर ईस्ट से चुनाव लड़ा। सिद्धू का मुकाबला भारतीय जनता पार्टी के राजेश कुमार हनी और आम आदमी पार्टी के सरबजोत सिंह धनबल से था। इन्हें क्रमश: 11 हजार 974  और दस हजार 857 वोट मिले। खबर लिखे जाने तक 117 सीटों में से कांग्रेस 75 सीटों पर आगे है। पहली बार पंजाब में विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमा रही आम आदमी पार्टी को 24 सीटें मिली हैं। वहीं शिरोमणि अकाली दल/बादल सरकार महज 18 सीटों पर सिमटकर रह गई है।

गौरतलब है कि पंजाब विधानसभा चुनाव में 117 सीटों के लिए कुल 1,145 उम्मीदवारों ने पर्चा भरा था। पंजाब के 1.98 करोड़ मतदाताओं में से 47 फीसदी महिलाएं हैं। पंजाब में इस साल पिछले विधानसभा चुनावों की तुलना में मतदान का प्रतिशत थोड़ा कम रहा। इस बार यहां 70 प्रतिशत मतदान रिकॉर्ड किया गया।

साल 2012 के विधानसभा चुनावों में पंजाब में 78.6% मतदान दर्ज किया गया था और वहीं साल 2007 के चुनावों में यह प्रतिशत 75.5 था। यहां वोटिंग के दौरान करीब एक लाख सुरक्षा कर्मी तैनात किए गए थे। पंजाब की 117 विधानसभा सीटों में से 34 विधानसभा सीट आरक्षित हैं जबकि 83 सामान्य श्रेणी की हैं। यहां एक ही चरण में मतदान पूरा हुआ है।