नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस ने रोहित शेखर तिवारी की पत्नी अपूर्वा को उनकी कथित तौर पर हत्या करने के मामले में बुधवार को गिरफ्तार किया. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दोनों अपनी शादी से खुश नहीं थे और उनमें लगातार झगड़े होते रहते थे.

रोहित शेखर की 16 अप्रैल को कथित तौर पर गला दबाकर हत्या कर दी गई थी. अपूर्वा से इस मामले में गत रविवार से पूछताछ की जा रही थी. वह लगातार अपने बयान बदल रही थी जिससे पुलिस को उस पर संदेह हुआ. रोहित की मां उज्ज्वला ने रविवार को अपनी बहू अपूर्वा और उसके परिवार पर लालची होने का आरोप लगाते हुए कहा था कि वे पारिवारिक संपत्ति हड़पना चाहते थे. उन्होंने पहले कहा था कि दंपति के बीच शादी के पहले दिन से ही झगड़े हो रहे थे.

सूत्रों ने बताया कि रोहिणी के फोरेंसिक लैब के विशेषज्ञ भी रविवार को डिफेंस कॉलोनी में स्थित रोहित तिवारी के घर गये और अपराध के घटनाक्रम को दोहराया। उनका मानना रहा कि गला घोंटे जाते समय रोहित द्वारा प्रतिरोध करने के कोई सबूत नहीं हैं. टीम ने उस गाड़ी की भी जांच की जिसमें एंबुलेंस के आने से पहले रोहित को लिटाया गया था. पुलिस ने अपूर्वा और दो घरेलू सहायकों को रविवार को पूछताछ के लिये हिरासत में लिया था.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हुआ था खुलासा
सूत्रों के अनुसार पुलिस तह तक जाने के काफी करीब है। उन्होंने बताया कि रोहित के घर में सात सीसीटीवी कैमरे हैं जिनमें से दो काम नहीं कर रहे हैं. दिल्ली पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद रोहित तिवारी की हत्या के मामले में बृहस्पतिवार को मामला दर्ज किया था. रिपोर्ट में बताया गया कि तिवारी की हत्या गला घोंटे जाने के कारण सांस रुकने से हुई है.