Congress Attacks PM Modi: कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के राष्ट्र के नाम संबोधन के बाद केंद्र सरकार पर कोरोना वायरस संकट से निपटने में नाकाम रहने का आरोप लगाया. विपक्षी दल ने कहा कि देश अब ‘कोरा संबोधन’ नहीं, बल्कि ठोस समाधान चाहता है. रणदीप सुरजेवाला और पवन खेड़ा ने एक बयान जारी कर कहा, ’24 मार्च, 2020 को मोदी जी ने कहा था कि महाभारत का युद्ध 18 दिन चला था और कोरोना से युद्ध जीतने में 21 दिन लगेंगे. लेकिन 210 दिन बाद भी समूचे देश में ‘कोरोना महामारी की महाभारत’ छिड़ी है. लोग मर रहे हैं, पर मोदी जी ‘समाधान की बजाय’ टेलीविज़न पर कोरे संबोधन से काम चला रहे हैं.’ Also Read - Farmers Protest LIVE: पीएम मोदी के साथ केंद्रीय मंत्री अमित शाह, राजनाथ, तोमर, गोयल की चल रही मीटिंग

उन्होंने आरोप लगाया, ‘कोरोना से लड़ाई में मोदी सरकार पूरी तरह ‘निकम्मी व नाकारा’ साबित हुई है. महामारी की विभीषिका में भाजपा ने देश के लोगों को अपने हाल पर बेहाल छोड़ दिया है.’ कांग्रेस नेताओं ने कहा, ‘भारत आज दुनिया का ‘कोरोना कैपिटल’ बन गया है. 19 अक्टूबर, 2020 को जारी आंकड़ों के मुताबिक कोरोना महामारी के संक्रमण में भारत अब दुनिया में पहले स्थान पर है.’ Also Read - PM Modi: 85 साल की बुजुर्ग पीएम मोदी के नाम करना चाहती हैं अपनी जमीन, जानें क्यों

उन्होंने कोरोना वायरस से संबंधित कई आंकड़े पेश करते हुए दावा किया, ‘100 दिन में भारत में कोरोना संक्रमण एक लाख से बढ़कर 75 लाख हो गया. यह घोर ‘नाकामी व निकम्मेपन’ को बयां करती है.’ सुरजेवाला और खेड़ा ने कहा, ‘मोदी जी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में कहा कि दवा आने तक कोरोना खत्म होने की कोई उम्मीद नहीं. समझ नहीं आता कि कितनी बार एक-दूसरे के विरोधाभासी झूठ बोलकर देश को बरगलाएंगे. देश अब कोरा संबोधन नहीं, बल्कि ठोस समाधान चाहता है.’ Also Read - वैक्सीनेशन को लेकर कांग्रेस ने उठाए सवाल, अधीर रंजन बोले- आम जनता के टीकाकरण के लिए कोई रोडमैप नहीं

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को कहा कि लॉकडाउन भले खत्म हो गया है, लेकिन कोरोना वायरस खत्म नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि जब तक कोरोना के खिलाफ लड़ाई में देश को सफलता नहीं मिल जाती, तब तक लापरवाही नहीं बरती जानी चाहिए. मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा कि भारत आज संभली हुई स्थिति में है और किसी भी सूरत में इसे बिगड़ने नहीं देना है.

(इनपुट: भाषा)