भुवनेश्वर: यूनेस्को धरोहर और विश्व प्रसिद्ध कोणार्क सूर्य मंदिर के रख-रखाव व संरक्षण में कोताही बरते जाने को लेकर चिंतित ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने केंद्र से अपील की है कि वह भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को कोणार्क के सूर्य मंदिर में कलात्मक नक्काशी वाले पत्थरों के स्थान पर सादे पत्थर लगाए जाने के मामले की जांच करने का निर्देश दे.

चिंता का विषय
ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा को लिखे एक पत्र में केंद्र सरकार से इस विश्व धरोहर के संरक्षण एवं बचाव के लिए उचित कदम उठाने को भी कहा है. पटनायक का यह पत्र मीडिया में आई एक खबर के बाद आया है जिसमें दावा किया गया कि मंदिर के मूल कलात्मक नक्काशी वाले करीब 40 फीसदी पत्थरों को हटा कर उनके स्थान पर सादे पत्थर लगा दिए गए हैं. मुख्यमंत्री ने कहा, “यह खबर हम सभी के लिए चिंता का विषय है.”

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद: सुप्रीम कोर्ट का जल्द सुनवाई से इंकार

13 वी शताब्दी में निर्मित कोणार्क का यह सूर्य मंदिर वास्तव में भगवान सूर्य के रथ को जाहिर करता है. यूनेस्को ने इसे विश्व धरोहर स्थल घोषित किया है. मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा है ‘‘मुझे लगता है कि एएसआई को इस मंदिर पर अधिक ध्यान देना चाहिए.’’(इनपुट एजेंसी)

दिवाली पर BJP पार्षद ने रिवॉल्‍वर से की फायरिंग, वीडियो फेसबुक पर डाला, अब हुई आफत