कोलकाता: नेताजी सुभाष चंद्र बोस के पोते और भाजपा नेता चंद्र कुमार बोस ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया कि कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट का नाम भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर करने के प्रस्ताव पर फिर से विचार करें, क्योंकि भारत की आजादी के बाद केपीटी के तहत डॉक का नाम नेताजी के नाम पर रखा गया. Also Read - पश्चिम बंगाल में बोले जेपी नड्डा, बहुत जल्द लागू होगा नागरिकता संशोधन कानून

बोस ने ट्वीट किया, ”यह श्यामा प्रसाद मुखर्जी का अपमान होगा अगर कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट का नाम उनके नाम पर रखा गया, क्योंकि भारत की आजादी के बाद केपीटी के तहत डॉक का नाम नेताजी के नाम पर रखा गया. श्यामा प्रसाद मुखर्जी खुद शर्मिंदगी महसूस करते. हम प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी से इस प्रस्ताव को वापस लेने का अनुरोध करते हैं.” Also Read - Bihar Polls 2020: बिहार चुनाव में गठबंधन 4, लेकिन मुख्यमंत्री पद के हैं ये 6 दावेदार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनवरी में कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट के 150 साल होने के समारोह में घोषणा की थी कि इसका नाम श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर होगा. देश के पहले उद्योग और आपूर्ति मंत्री मुखर्जी हिंदू महासभा के नेता और भारतीय जनसंघ के संस्थापक थे.

बोस ने प्रधानमंत्री और पार्टी के शीर्ष नेताओं अमित शाह और जेपी नड्डा को इस महीने की शुरुआत में पत्र लिखकर कुछ मुद्दे उठाए थे और चिंताएं व्यक्त की थी. बोस के मुताबिक 2021 के विधानसभा चुनावों के पहले इन मुद्दों का समाधान होना चाहिए. वह बीजेपी उम्मीदवार के तौर पर कोलकाता दक्षिण सीट से 2019 का लोकसभा चुनाव लड़े थे, लेकिन उन्हें जीत नहीं मिली थी.