मुंबई..  इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजमिन नेतन्याहू पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाली पुलिस की सिफारिशों में नाम आने के कुछ घंटों बाद भारतीय उद्यमी रतन एन. टाटा ने गुरुवार को रिपोर्ट को तथ्यात्मक गलत और जाहिर तौर पर प्रेरित करार दिया. इजरायली समाचार मीडिया आउटलेट वाईनेटन्यूज में प्रदर्शित होने वाली खबर के मुताबिक, हॉलीवुड निर्माता अर्नोन मिल्चान ने कथित तौर पर टाटा के साथ साझेदारी के रूप में इजरायल-जॉर्डन सीमा पर एक मुक्त व्यापार क्षेत्र के प्रसार का प्रयास किया था.

वाईनेटन्यूज की खबर के मुताबिक, पुलिस के मुताबिक, नेतन्याहू पर आरोप का सबसे मुख्य उदाहरण मिल्चान को फायदा पहुंचाने के लिए इजरायल के हितों के खिलाफ काम करना था और वह इजराइल-जॉर्डन सीमा पर एक मुक्त व्यापार क्षेत्र को प्रोत्साहित कर रहे थे. सीमा पर हॉलीवुड निर्माता ने भारतीय उद्योगपति रतन नवल टाटा के साथ अपनी साझेदारी के हिस्से के रूप में प्रधानमंत्री से प्रचार करने की मांग की थी.

Nirav Modi: Why Bank gave information to CBI in installments, 12 Big facts to Know | नीरव मोदीः PNB ने सीबीआई को टुकड़ों में क्यों दी सारी जानकारी? जानें 12 बड़ी बातें…

Nirav Modi: Why Bank gave information to CBI in installments, 12 Big facts to Know | नीरव मोदीः PNB ने सीबीआई को टुकड़ों में क्यों दी सारी जानकारी? जानें 12 बड़ी बातें…

80 वर्षीय टाटा ने आरोपों का खंडन करते हुए एक बयान में कहा,  मीडिया में अर्नोन मिल्चान के साथ साझेदारी और भारी मुनाफे के दावे की आ रही दोनों खबरें तथ्यात्मक गलत और जाहिर तौर पर प्रेरित लग रही है. टाटा संस, सॉल्ट-टू-सॉफ्टवेयर समूह के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि इजरायल मीडिया में संदर्भित ‘टाटा प्रोजेक्ट’ को टाटा ने इजरायल संस्थान से 2009 में प्राप्त किया था.

टाटा ने बयान में कहा कि उन्होंने जॉर्डन नदी के तट पर एक कम मात्रा वाली ऑटोमोटिव असेंबली प्लांट के लिए फिलिस्तीन के साथ एक व्यापक शांति पहल के हिस्से के रूप में एक अवधारणा योजना तैयार करने में टाटा संगठन की सहायता की मांग की थी. इस योजना के पीछे इरादा फिलिस्तीनियों को कुशल रोजगार प्रदान करना था.