2000 रुपए के नए नोट जल्दी ही बंद हो जाएंगे। ये अगले कुछ सालों में ही कर लिया जाएगा। 500 रुपए के नोट ही बाजार में सबसे बड़ी करेंसी होगी। ऐसा कहना है आरएसएस के विचारक और अर्थशास्त्री एस गुरुमूर्ति का। यह बयान इसलिए भी महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि वो विवेकानंद इंडिया फाउंडेशन के महत्वपूर्ण सदस्य हैं। इंडिया टुडे से बात करते हुए गुरुमूर्ति ने कहा कि नए 2000 रुपए के नोट केवल करेंसी सरकुलेशन को ठीक करने के लिए किया गया था। Also Read - आरएसएस थिंकटैंक एस. गुरुमूर्ति ने कहा, चीन ने गलत वक्‍त पर चाल चली है

Also Read - चलती ट्रेन से उड़ाए पांच सौ-हजार के पुराने नोट, बटोरने को दौड़ पड़ा पूरा गांव, सैकड़ों ने भर ली जेबें, फिर हुआ ये

आरएसएस विचारक और अर्थशास्त्री गुरुमूर्ति ने बताया कि भारत सरकार देश में छोटी नोट का चलन बढ़ाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि बड़ी नोट को अगले पाँच साल में चलन से बाहर कर लिया जाएगा। विमुद्रीकरण के दुष्प्रभावों से निपटने के लिए मोदी सरकार ने उनसे भी सुझाव मांगे थे। उन्होंने कहा कि 100 और 250 रुपए के नोट के साथ 500 की नोट सबसे बड़ी होगी। यह भी पढ़ेंः PM मोदी ने बैंकोंं की 500 ब्रांचों में कराया स्टिंग, फंस सकते हैं कई घोटालेबाज : नोटबंदी Also Read - Arvind Kejriwal attacks on PM Narendra Modi after fake note dispence incident | ATM से निकले फर्जी नोट, केजरीवाल बोले- नोट ठीक से नहीं छाप सकता वो देश क्या चलाएगा

2000 रुपए के नोट कैसे बंद किए जाएंगें? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि बैंको के जरिए पहले 2000 के नोट बाजार से बिल्कुल कम कर लिए जाएंगें। उसके बाद एक घोषणा करके 1-2 महीने में जमा करा लिए जाएँगें। छोटी नोट के कई फायदे होते हैं। सरकार के नोटबंदी के फैसले के बाद 2000 के नए नोट चलाने पर कड़ी आलोचना की जा रही थी। माना जा रहा था इससे भ्रष्टाचार बढ़ेगा।