नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर रिश्वतखोरी घोटाले में भारतीय वायुसेना के पूर्व अध्यक्ष एसपी त्यागी, उनके दो चचेरे भाइयों, वकील गौतम खेतान, दो इतालवी बिचौलियों और फिनमेकेनिका के खिलाफ पूरक आरोप-पत्र दाखिल किया है. विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार की अदालत में आरोप-पत्र दाखिल किया गया, जिस पर न्यायाधीश 20 जुलाई को विचार करेंगे. Also Read - ED ने कश्मीरी अलगाववादी नेता शब्बीर शाह की पत्नी के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया

Also Read - दो महीने पहले एनकाउंटर में मारे गए विकास दुबे के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा, जानें मामला

अगस्टा वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर डील: संसद में आज भी हंगामे के आसार Also Read - दीपक कोचर 11 दिन की ED हिरासत में भेजे गए, मनी लॉन्ड्रिंग मामले में एक दिन पहले ही किया गया था अरेस्ट

विशेष लोक अभियोजक एनके मट्टा के जरिए दाखिल किए गए आरोप-पत्र में एस. पी. त्यागी सहित त्यागी बंधुओं, खेतान, इतालवी बिचौलिये कार्लो गेरोसा एवं ग्विडो हैश्के और अगस्तावेस्टलैंड की मूल कंपनी फिनमेकेनिका को नामजद आरोपी बनाया गया है. आरोप-पत्र में उन पर करीब 2.8 करोड़ यूरो के धनशोधन का आरोप है. ईडी ने अपने आरोप-पत्र में कहा है कि कई विदेशी कंपनियों के जरिए धनशोधन किया गया, जिनका इस्तेमाल कथित कमीशन रखने के लिए मुखौटे (फ्रंट) के तौर पर किया गया.

अदालत 3,600 करोड़ रुपए के वीवीआईपी हेलीकॉप्टर करार से जुड़े धनशोधन मामले की सुनवाई कर रही है. एक जनवरी 2014 को भारत ने वायुसेना को 12 एडब्ल्यू-101 वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों की आपूर्ति के लिए फिनमेकेनिका की ब्रिटिश सहयोगी अगस्तावेस्टलैंड के साथ हुए अनुबंध को रद्द कर दिया था. अनुबंध की शर्तों के कथित उल्लंघन और करार हासिल करने के लिए कमीशन के तौर पर 423 करोड़ रुपए के भुगतान के आरोपों पर सरकार ने अनुबंध रद्द कर दिया था.