नई दिल्ली: 2019 में लोकसभा चुनाव होने हैं. चुनाव आयोग के लिए चुनाव के दौरान होने वाले भ्रष्टाचार को रोकने की बड़ी चुनौती होगी. चुनाव आयोग ने इसके लिए कमर कस ली है. चुनाव आयोग हर वोटर को दलों और प्रत्याशियों की गलत गतिविधियों पर नजर रख सीधे शिकायत करने की ताकत देगा. जी हां, ऐसा ‘ई-नेत्र’ नामक एप से संभव होगा. अगर सब कुछ ठीक रहा तो 2019 चुनाव में एप द्वारा हार मतदाता ‘पुलिस’ की भूमिका निभा सकेगा. एप के जरिए वोटर किसी भी भ्रष्टाचार, शराब, साड़ी बांटने, गलत भाषण देने जैसे मामलों की शिकायत कर सकेगा. शिकायत सीधे चुनाव आयोग के पास पहुंचेगी. चुनाव आयोग फिलहाल इस एप को बनाने का काम कर रहा है. Also Read - दिल्ली से अमृतसर का सफर मात्र 4 घंटे में होगा पूरा, सिखों के इन प्रमुख शहरों से होकर गुजरेगा सड़क मार्ग

चार राज्यों के चुनाव में किया जाएगा प्रयोग
इकॉनमिक टाइम्स की खबर के अनुसार मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने इस योजना का खुलासा किया है. मुख्य चुनाव आयुक्त के अनुसार अगले चुनाव को ध्यान में रखते हुए हम एप की तैयारी कर रहे हैं. इस एप को एक माह के अंदर लॉन्च करने की योजना है. उन्होंने बताया कि 2019 चुनाव से पहले मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम व राजस्थान में चुनाव है. इन चुनावों में इस एप का इस्तेमाल किया जाएगा. Also Read - जासूसी में दो अफसरों के निष्‍कासन से तिलमिलाए पाक ने भारतीय राजनयिक को तलब किया

इस तरह शिकायत कर सकेगा कोई भी आम मतदाता
चुनाव आयुक्त के अनुसार कर्नाटक चुनाव के दौरान भी इसका इस्तेमाल हुआ था, लेकिन प्रचार प्रसार नहीं होने के कारण सिर्फ 800 लोगों ने इसका प्रयोग किया. अब इसे बड़े पैमाने पर इस्तेमाल के लिए लॉन्च किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि कोई भी आम मतदाता इसे डाउनलोड कर सकेगा और इस पर उसके इलाके में प्रत्याशियों द्वारा बांटी जा रही शराब, साड़ी, रुपए की तस्वीरें, वीडियो भेज सकेगा. प्रत्याशियों के भड़काऊ और गलत भाषणों का वीडियो भी इस पर भेजा जा सकेगा. शिकायत सही पाए जाने पर चुनाव आयोग तुरंत ही एक्शन लेगा. Also Read - दिल्ली में जासूसी करते पकड़े गए पाक उच्चायोग के दो अधिकारी, भारत ने कहा- 24 घंटे में देश छोड़ दो