नई दिल्ली: गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर का आज निधन हो गया है. उनके निधन से उनके चाहने वालों में शोक की लहर दौड़ गई. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, पीएम नरेंद्र मोदी सहित देश के सभी पक्ष-विपक्ष के शीर्ष नेताओं ने शोक जताया है. पीएम मोदी ने कहा कि मनोहर पर्रिकर आधुनिक गोवा के निर्माता थे. मनोहर पर्रिकर इतने सादगी पूर्ण थे कि विधानसभा स्कूटी से चले जाते थे. शहर के किसी भी टी स्टॉल पर खड़े होकर चाय पी लेते थे. पर्रिकर का पहनावा भी हमेशा साधारण रहा. वे हमेशा एक आधी बांह वाली कमीज और साधारण पैंट में नजर आते थे.

देश के पहले आईआईटियन सीएम
मनोहर पर्रिकर सीएम बनने वाले देश के पहले आईआईटियन थे. उनका जन्म 13 दिसम्बर, 1955 को गोवा के मापुसा में हुआ था. उनका पूरा नाम मनोहर गोपालकृष्णन प्रभु पर्रिकर है. साल 1978 में उन्होंने आईआईटी मुम्बई से मेटलर्जिकल में इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की थी. साल 2001 में पर्रिकर को आईआईटी मुम्बई ने डिस्टिंग्विस्ड एल्यूमिनी अवॉर्ड से सम्मानित किया था.

मनोहर पर्रिकर: 25 साल का करियर, 4 बार CM, 1 बार बने रक्षामंत्री, ऐसा रहा राजनीति के ‘कॉमन मैन’ का सफर

सादगी की मिसाल थे
पर्रिकर देश के ऐसे मुख्यमंत्रियों की फेहरिस्त में शामिल थे जिन्हें सादगी भरा जीवन बिताना पसंद था. गोवा के सीएम होने के बावजूद पर्रिकर मंहगी गाड़ियों को छोड़कर स्कूटी से विधानसभा जाया करते थे. गोवा के सीएम रहते हुए उन्होंने मुख्यमंत्री आवास में रहने से इनकार कर दिया था. इसकी जगह उन्होंने खुद के छोटे से घर में रहने का फैसला किया. पर्रिकर अक्सर शहर के किसी टी-स्टॉल पर चाय पीते हुए भी नजर आ जाते थे. पर्रिकर का पहनावा भी हमेशा साधारण रहा. वे हमेशा एक आधी बांह वाली कमीज और साधारण पैंट में नजर आते थे.

चार बार रहे सीएम

मनोहर पर्रिकर बीजेपी के टिकट पर 1994 में पहली बार विधानसभा पहुंचे. फिर जून 1999 से नवबंर 1999 तक विपक्ष के नेता रहे. पर्रिकर अक्टूबर 2000 में पहली बार सीएम बने. हालांकि उनका ये कार्यकाल फरवरी 2002 तक ही रहा. जून 2002 में पर्रिकर फिर से सीएम बने. 2007 के चुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की और दिगंबर कामत सीएम बने. फिर 2012 के चुनाव में बीजेपी ने वापसी की और पर्रिकर तीसरी बार सीएम बने. उनकी छवि एक बेदाग नेता की रही. पर्रिकर की इसी बेदाग छवि के कारण ही पीएम नरेंद्र मोदी ने उन्हें रक्षामंत्री बनाया था. पर्रिकर नवंबर 2014 से 13 मार्च 2017 तक केंद्रीय रक्षामंत्री रहे थे. इसके बाद उन्हें फिर से चौथी बार गोवा का सीएम बनाया गया. गोवा के सीएम रहते हुए ही उन्होंने अंतिम सांस ली.

गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर का निधन, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जताया शोक

अगस्ता वेस्टलैंड चॉपर घोटाले की जांच भी शुरू कराई
मनोहर पर्रिकर नवबंर 2014 में देश के रक्षामंत्री बनाए गए थे. इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली के पास रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार था. केंद्रीय कैबिनेट में शामिल करने के लिए उन्हें उत्तर प्रदेश से राज्यसभा का सदस्य बनाया गया था. रक्षा मंत्रालय में सुस्ती से काम को पर्रिकर ने तेज और पारदर्शी बनाया. इसके अलावा उन्होंने अगस्ता वेस्टलैंड जैसै वीवीआईपी चॉपर घोटाले की जांच भी शुरू कराई थी.