New IT rules 2021: केंद्र सरकार की चेतावनी के बावजूद इंटरनेट मीडिया के नए नियमों का पालन नहीं करने पर सरकार ने आईटी ऐक्ट के तहत प्राप्त सुरक्षा का अधिकार ट्विटर से वापस ले लिया है. यानी कि अब किसी भी प्रकार की शिकायत मिलने पर ट्विटर के खिलाफ सरकार उसपर आपराधिक कार्रवाई कर सकती है. वहीं, सरकार की इस कर्रवाई के बाद ट्विटर के तेवर अब नरम पड़ गए हैं. ट्विटर ने एक बयान जारी कर कहा है कि वह सरकार द्वारा जारी गिए गए नए नियमों को मानने के लिए तैयार है.Also Read - 90% लोग टॉयलेट में भी करते हैं फोन का इस्तेमाल, यूएस में एक सर्वे से हुआ बड़ा खुलासा

नए आईटी नियमों का पालन नहीं करने के बाद ट्विटर ने भारत में मिला कानूनी सुरक्षा का आधार गंवा दिया है. इस पर केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को कहा कि ट्विटर को भारत में मिले कानूनी संरक्षण को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं. उन्होंने कहा, यह स्पष्ट है कि ट्विटर ने 25 मई से लागू हुए नए आईटी नियमों का पालन नहीं किया और उसने कई अवसर मिलने के बावजूद जानबूझकर इनका पालन ना करने का रास्ता चुना, इसके बाद यह कार्रवाई की गई है. Also Read - Lalu Yadav का दिखा दबंग अवतार, जब पटना की सड़कों पर अकेले जीप लेकर निकले लालू, देखें Video

आईटी एवं कानून मंत्री ने कहा कि एक छोटी से चिंगारी बड़ी आग में तब्दील हो सकती है खासकर फेक न्यूज के मामले में. आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि आश्चर्यजनक है कि स्वयं को स्वतंत्र अभिव्यक्ति के ध्वजवाहक के रूप में पेश करने वाला ट्विटर खुद नियमों की अवहेलना करता है. Also Read - UP Assembly Election 2022: अखिलेश का योगी पर करारा वार-कौन मान लेगा हमारे बाबा लैपटॉप चला लेते हैं

ट्विटर एक ओर अपनी फैक्ट चेक सिस्टम को लेकर उतावला रहा, लेकिन वह उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में एक मुस्लिम बुजुर्ग की दाढ़ी काटे जाने जैसी परेशान करने वाली खबरों के मामले में त्वरित कार्रवाई करने में विफल रहा और उसने भ्रामक जानकारी को रोकने का कोई प्रयास नहीं किया. प्रसाद ने कहा कि भारतीय कंपनियां, चाहे आईटी, फार्मा या अन्य क्षेत्र की हों, वो जब अमेरिका या अन्य देशों में कारोबार करने जाती हैं तो वहां के स्थानीय कानूनों का पालन करती हैं.

ट्विटर के प्रवक्ता ने कही ये बात…

ट्विटर के प्रवक्ता ने कहा है कि हम प्रक्रिया के हर चरण की प्रगति से सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय को अवगत करा रहे हैं.अंतरिम मुख्य अनुपालन अधिकारी को बरकरार रखा गया है और विवरण जल्द ही सीधे मंत्रालय के साथ साझा किया जाएगा. ट्विटर नए दिशा-निर्देशों का पालन करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है.