नई दिल्ली: जब भी आप कहीं जाते होंगे तो कहीं न कहीं कचरा बीनने वाले लोग दिखाई देते होंगे, इन लोगों की हालत देखकर दया तो आती है लेकिन हम कुछ कर नहीं पाते. अब इन कचरा बीनने वाले लोगों को सम्मानित जीवन देने के लिए एक नई पहल शुरू की जा रही है जिसमें कचरा बीनने वालों को अच्छी आमदनी होगी. Also Read - QS World University Ranking 2021: QS वर्ल्ड रैंकिंग के टॉप 200 में भारत के 7 इंजीनियरिंग संस्थान, IIT Bombay देश के बेस्ट संस्थान में शुमार, देखें पूरी लिस्ट

Also Read - JEE 2021 Exam: IIT Delhi इस साल से JEE से हटा सकता है ये कोर्स, जानें क्या है इसके पीछे की वजह 

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली की मदद से एक संस्थान ने कचरा बीनने वाले लोगों (रैग-पिकर) को प्रशिक्षण देने की एक विशेष पहल शुरू की है, जिसके तहत उन्हें कचरा बीनने में मिलने वाली वस्तुओं की बेहतर कीमत मिलेगी. Also Read - Vegetarian Egg: आ रहा है शुद्ध, देसी, सौ फीसदी शाकाहारी अंडा, आप खाएंगे क्या?

हफ्ते में चार दिन काम, तीन दिन आराम, इस कंपनी ने अपने यहां लागू किया ये नियम

आईआईटी-दिल्ली के मौलिक विचार की उपज इंडियन पलूशन कंट्रोल एसोसिएशन (आईपीसीए) ने बयान में कहा कि उत्तर भारत में मुख्य रूप से दिल्ली, नोएडा और गुड़गांव के 2,000 रैग-पिकर को अब कचरा प्रबंधन परियोजना में शामिल किया गया है.

आईपीसीए ने कहा, “महत्वपूर्ण सेवा के बावजूद भारत में रैग-पिकर को जीवन-निर्वाह के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. उन्हें हमेशा हानिकारक पदार्थो का खतरा बना रहता है, लेकिन उनको पारिश्रमिक कम मिलता है और उनके लिए मूलभूत सुविधाओं का भी अभाव है.”

ये हैं दुनिया के 10 सबसे महंगी नस्ल के डॉग्स

कचरे को अलग करने के बाद पुनर्चक्रण यानी दोबारा उपयोग में लाने वाली वस्तुएं कबाड़ीवाले को बेजी जाती हैं, जबकि गीला कचरा मवेशियों के चारे के रूप में उपयोग होता है, जोकि बहुत कम कीमतों पर बिकता है. आईपीसीए ने बताया कि सबसे बड़ी समस्या रिश्वत और ठेकेदारी की व्यवस्था को लेकर है. महानगर निगम द्वारा कचरा संग्रह किए जाने की व्यवस्था शुरू होने के बाद उनके लिए कचरा मिलना चुनौतीपूर्ण कार्य हो गया है.

आईपीसीए ने कहा, “इसलिए अब वे कचरे से कीमती चीजें संग्रह करने के लिए एमसीडी अधिकारियों को कचरे की कीमत चुकाना पड़ेगा. यह कीमत उनको तब भी चुकानी पड़ेगी, जब वे कचरे के खुले डब्बे से कचरा संग्रह करेंगे, क्योंकि एमसीडी अधिकारी कमीशन मांगते हैं.”

पोलियो का मरीज था ट्रक ड्राइवर का बेटा, पहले बना बॉडी बिल्डर, फिर क्रिकेटर

आईपीसी के अध्ययन के अनुसार, 200 घरों से कचरा संग्रह करने से 20,000-25,000 रुपए मिलेंगे, जोकि एक अकुशल मजदूर के लिए काफी हैं. आईपीसीए के संस्थापक व निदेशक आशीश जैन ने कहा, “हम उनको बेहतर कीमत दिलाने की दिशा में काम कर रहे हैं. साथ ही उनके स्वास्थ्य को होने वाले खतरे से बचने में मदद करने पर विचार किया जा रहा है.”

(इनपुट: एजेंसी)