कोयंबटूर : तमिलनाडु में 19 साल की लड़की से रेप के मामले में नया खुलासा है. इस मामले में चार युवकों की गिरप्तारी के बाद पांचवें शख्स की भी पहचान हो गई है. इस गैंग के बारे में कहा जा रहा है कि वह लड़कियों और महिलाओं का यौन शोषण करने के बाद उनका वीडियो बनाते थे और ब्लैकमेल करते थे. पकड़े गए युवकों ने कबूल किया है कि वह इस तरह के 50 से ज्यादा वारदातों को अंजाम दे चुके हैं.

पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए कहा है कि विभिन्न आईपीसी की धाराओं के अंतर्गत उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया है. इस केस में गुंडा एक्ट के तहत मामला दर्ज करने के साथ ही इसे सीबीसीआईडी को ट्रांसफर कर दिया गया है. इस मामले में पुलिस को कुछ और भी वीडियो मिले हैं. हालांकि, पुलिस का कहना है कि जब तक कि उन केस की भी महिलाएं सामने आकर शिकायत नहीं दर्ज कराती हैं, पुलिस कुछ खास नहीं कर सकती है.

19 साल की छात्रा बनी शिकार
पुलिस के मुताबिक, 19 साल की एक छात्रा का कुछ युवकों ने अपहरण कर चलती कार के अंदर रेप किया. इस दौरान उन्होंने इस पूरी घटना का वीडियो बनाया और उसके जेवरात भी छीन लिए. छात्रा किसी तरह से उनके चंगुल से छूटकर घर पहुंची. जिसके बाद वह परिजनों की सहायता से पुलिस स्टेशन जाकर मामले में शिकायत दर्ज कराई.

पुलिस ने 4 शख्स को किया गिरफ्तार
शिकायत मिलते ही पुलिस एक्टिव हो गई और केस दर्ज करके सर्च ऑपरेशन शुरू कर दी. इसके बाद पोलाची ईस्ट पुलिस ने तिरुनवुक्कारासू, एन सतीश, एन सबरीरंजन और टी वसंतकुमार को गिरफ्तार कर लिया. इसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की तो पता चला कि वे इस तरह के केस लगातार करते रहे हैं. पिछले 7 साल में उन्होंने 50 से ज्यादा ऐसी वारदातों को अंजाम दिया है. पुलिस ने ऐसे 4 वीडियो भी बरामद किए हैं, जिससे पहले वह ब्लैकमेल करके पीड़िताओं से पैसे वसूल चुके हैं.

एसपी ने की ये अपील
इस मामले एसपी ने अपील की है कि इस केस से जुड़े कुछ और वीडियो सामने आ सकते हैं. ऐसी स्थिति में वह पिछले 2 साल में लड़कियों-महिलाओं के सुसाइड के कई केस की एक बार फिर से जांच कर रहे हैं. उन्होंने जनता से अपील की है कि पीड़िताएं सामने आएं और केस दर्ज कराएं. उन्होंने ये भी कहा है कि यदि वे पुलिस के सामने आने से डरती हैं तो वे मजिस्ट्रेट के पास जाएं और अपना बयान दर्ज कराएं.