नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने केंद्र सरकार के 4 साल पूरा होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि देश के लोग चाहते हैं कि अगला पीएम कामदार,जिम्मेदार और ईमानदार बने और वह लोगो सें झूठे बादे न करे. सिब्बल ने कहा कि देश के लोग देश के लोग 2019 के चुनाव के बाद एक ऐसा प्रधानमंत्री देखना चाहते हैं जो न केवल कामदार हो बल्कि जिम्मेदार हो और ईमानदार हो न कि जुमलेवार हो. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक चुनाव में रैली के दौरान खुद को खुद को ‘कामदार’ यानी मेहनकश लोगों के साथ खड़ा बताया था वहीं कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए उन्हें ‘नामदार’ की संज्ञा दी थी. ‘नामदार’ यानी बड़े नाम वाला.

वट्सऐप, फेसबुक, अमेजन की सरकार
सिब्बल ने कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी नीत सरकार को केवल कॉर्पोरेट घरानों की चिंता है. सिब्बल ने राजग सरकार के चार वर्ष पूरे होने के अवसर पर कहा, मोदी को केवल कॉर्पोरेट घरानों की चिंता है. यह वट्सऐप, फेसबुक, अमेजन और पेटीएम जैसी कंपनियों की सरकार है. यह देश के लोगों के लिए नहीं है. सिब्बल ने कहा कि लोग मोदी सरकार के चार वर्षो के शासन से असंतुष्ट हैं. भ्रष्टाचार मुक्त सरकार चलाने का दावा करने वाले प्रधानमंत्री रेड्डी बंधुओं के साथ मंच साझा करते हैं, जो कई करोड़ के खनन घोटाले में संलिप्त रहे हैं.

बीजेपी को वोट न दें किसान
प्रधानमंत्री ने शनिवार को सरकार के चार वर्ष पूरे होने के अवसर पर कटक में एक जनसभा को संबोधित किया. सिब्बल ने कहा कि भाजपा सरकार ने राज्य (ओडिशा) के वैधानिक मुद्दों को नजरअंदाज किया है. कांग्रेस नेता ने कहा, जब राज्य विधानसभा ने सर्वसम्मति से धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य को बढ़ाने के लिए प्रस्ताव पास किया और सदस्यों ने प्रधानमंत्री से मिलने का समय मांगा तो, उन्हें प्रधानमंत्री से मिलने नहीं दिया गया. उन्होंने कहा, हम किसानों से कहना चाहते हैं कि मोदी को वोट न दें, जो किसानों की समस्या को सुनने के लिए तैयार नहीं हैं.

महानदी जल विवाद पर बोले
सिब्बल ने छत्तीसगढ़ सरकार के साथ महानदी जल विवाद के लिए प्रधानमंत्री और ओडिशा की मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की आलोचना की.कांग्रेस नेता ने कहा, “क्या मोदी यह आश्वासन देंगे कि महानदी पर होने वाला निर्माण बंद हो जाएगा? उन्होंने जो गलती की है, क्या वह इसके लिए ओडिशा के लोगों से माफी मांगेंगे. उन्होंने कहा कि केंद्र व ओडिशा सरकार राज्य के लोगों के लिए रोजगार सृजन करने में विफल रही है.