नई दिल्ली: टेरर फंडिंग मामले में एनआईए ने आरोपियों पर शिकंजा और कस दिया है. एनआईए ने मंगलवार को हिज्बुल मुजाहिदीन के सरगना सैयद सलाहुद्दीन के बेटे शाहिद युसूफ को कश्मीर में गिरफ्तार कर लिया. शाहिद को साल 2011 के हवाला फंडिंग केस में गिरफ्तार किया गया है. Also Read - NIA ने Lashkar-e-Mustafa के चीफ हिदायत-उल्ला मलिक की गिरफ्तारी से जुड़े केस की जांच अपने हाथ में ली

सलाहुद्दीन का बेटा शाहिद जम्मू कश्मीर में कृषि विभाग में जूनियर इंजीनियर है. उसकी गिरफ्तारी से एनआईए को अहम जानकारी मिलने की उम्मीद है. शाहिद, सलाहुद्दीन की पहली पत्नी का बेटा है. आरोप है कि शाहिद को हवाला के जरिए पाकिस्तान से वाया सऊदी अरबिया से 3.4 लाख रुपये मिले थे. ये रकम सात बार में दी गई.

Salahuddin’s speech is the evidence of his being a terrorist says Indian government | सैयद सलाहुद्दीन के ‘भाषण’ ही उसके आतंकवादी होने का सबूत है: भारत सरकार

Salahuddin’s speech is the evidence of his being a terrorist says Indian government | सैयद सलाहुद्दीन के ‘भाषण’ ही उसके आतंकवादी होने का सबूत है: भारत सरकार

Also Read - Israeli Embassy Blast: एनआईए करेगी इजरायल दूतावास के पास हुए विस्फोट की जांच, जानिए अब तक क्या हुआ

फरार हैं दो आरोपी
अप्रैल 2011 में दर्ज किए गए इस मामले में एनआईए अब तक दो आरोप पत्र दायर कर चुकी है. इनमें पाकिस्तान समर्थक अलगाववादी सैयद अली शाह गिलानी के निकट सहयोगी जी एम भट, मोहम्मद सिद्दीक गनई, गुलाम जीलानी लीलू और फारूक अहमद डागा शामिल हैं. यह चारों आरोपी न्यायिक हिरासत में हैं. इनके अलावा एनआईए ने मोहम्मद मकबूल पंडित और ऐजाज अहमद भट का नाम भी आरोप पत्र में शामिल किया है लेकिन ये दोनों अभी फरार हैं. दोनों के खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस जारी किये गये हैं. Also Read - इजरायली दूतावास धमाका मामले में पुलिस को मिले CCTV फुटेज से सुराग, जानिए अपडेट्स

इस साल मई में दर्ज हुए मामले में 10 लोग गिरफ्तार 
एनआईए ने आतंकी वित्त पोषण से जुड़े दो और मामले भी दर्ज किये हैं.  इनमें से एक मामला नवंबर 2011 में दर्ज किया गया था तो दूसरा इस साल मई में दर्ज किया गया था. जांच एजेंसी ने 2011 के दूसरे मामले में सैयद सलाहुद्दीन समेत 10 लोगों के खिलाफ पहले ही आरोप पत्र दायर कर रखा है. हालिया मामले में एनआईए ने गिलानी के कुछ करीबी रिश्तेदारों और सहयोगियों समेत 10 लोगों को गिरफ्तार किया है.

सलाहुद्दीन पाकिस्तान में अपनी दूसरी पत्नी के साथ रहता है. यहां वह युनाइटेड जिहाद काउंसिल का अध्यक्ष भी है. उस पर भारत में कई आतंकी घटनाओं में सलिप्त होने का आरोप है. बीते साल पठानकोट एयरबेस में हुए आतंकी हमले के पीछे यूनाइटेड जिहाद काउंसिल का ही हाथ था. इसी साल संयुक्त राष्ट्र ने सलाहुद्दीन को वैश्विक आतंकी घोषित किया है.