नई दिल्ली: नोटबंदी का बुधवार को एक साल होने जा रहा है लेकिन इसके बाद भी पुराने नोट मिलने का सिलसिला थम नहीं रहा है. एनआईए ने आज यानि मंगलवार को जम्मू कश्मीर आतंकी फंडिंग केस में पकड़े गए 9 लोगों से लगभग 36 करोड़ रुपए बरामद किए हैं. खास बात ये है कि यह रकम बंद हो चुके 500 और 1000 के नोटों में है.Also Read - Target Killing in Kashmir: LeT के मुखौटे आतंकी संगठन TRF के 4 सहयोगी अरेस्‍ट, हैंडलर लाला उमर के इशारे पर हुई थी हत्‍या

बताया जा रहा है कि ये नोट दिल्ली के कनॉट प्लेस के पास जय सिंह रोड पर 4 लग्जरी गाड़ियों में रखे थे. एनआईए के अनुसार गाड़ी में रखे बंडलो में कुल 36 करोड़ 34 लाख 78 हजार 500 रुपये हैं. इसके साथ ही 9 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है इन सभी को बुधवार को अदालत में पेश किया जाएगा. ये लोग जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर जैसे आतंकी संगठनों की फंडिंग करते थे. Also Read - कश्मीर घाटी में NIA का शिकंजा, भारत विरोधी तत्व और पत्थरबाज हिरासत में लिए

Also Read - एनईआईए में 1,650 करोड़ रुपये लगाएगा केंद्र, निर्यात को मिलेगा बढ़ावा

बता दें कि 30 अक्टूबर को नियुक्त हुए एनआई के नए चीफ वाईसी मोदी के बाद हुई ये बड़ी कार्रवाई है. एनआईए का ये कदम खास महत्व इसलिए भी रखता है क्योंकि इन दिनों विपक्ष द्वारा सरकार पर ये आरोप लगाया जा रहा है कि नोटबंदी से सीमा पार से हो रहे आतंकवाद या कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी में कोई कमी नहीं आया है.