नई दिल्ली. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पाकिस्तानी आंतकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा की भारत में गतिविधियों की जांच के संबंध में उत्तराखंड से एक तथाकथित हवाला संचालक को गिरफ्तार किया है. एजेंसी के एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि मामले में पांचवे आरोपी अब्दुल समद को हरिद्वार से गिरफ्तार कर दिल्ली लाया गया और उसे अदालत में पेश किया गया. Also Read - आतंकी संगठन लश्कर का जल्लाद बनने पाकिस्तान जा रहा था अमेरिकी शख्स, 15 साल की जेल

उन्होंने बताया कि उत्तराखंड के हरिद्वार जिले के बुक्कनपुर गांव निवासी समद को कल यहां एक प्राधिकृत अदालत में पेश किया गया, जिसने आतंकवादी गतिविधयों के लिए धन जुटाने के मामले में उसे छह दिन के लिए एनआईए की हिरासत में भेज दिया. विशेष न्यायाधीश तरुण सहरावत ने 22 वर्षीय समद को एजेंसी की हिरासत में भेज दिया. एजेंसी ने अदालत से कहा था कि आरोपी से पूछताछ के लिए उसे हिरासत में लेने की जरूरत है. Also Read - Pakistan defence minister asif khawaja says, Hafiz and lashkar are our liability | अमेरिका पर बिफरा पाक, हाफिज-लश्कर हमपर बोझ, छुटकारा पाने में वक्त लगेगा

एनआईए के प्रवक्ता ने आरोप लगाया कि समद एक प्रमुख हवाला संचालक है जो मुजफ्फरनगर, देवबंद और रुड़की इलाकों से अपनी गतिविधयां चलाता है. वह सउदी अरब में रहने वाले अपने रिश्तेदार के माध्यम से वहां मौजूद एलईटी के एक वित्तपोषक के लिए वाहक के तौर पर काम कर रहा था. Also Read - Kashmir: Hand grenade thrown at PDP minister's convoy, 2 dead | कश्मीर: आतंकी हमले में बाल-बाल बचे मंत्री नईम अख्तर, दो लोगों की मौत

नवंबर 2017 में उसने लश्कर-ए-तैयब्बा के सक्रिय सदस्य शेख अब्दुल नईम तक धन पहुंचाने के लिए उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में हवाला संचालकों से कथित तौर पर साढ़े तीन लाख रुपये इकठ्ठे किए थे. एनआईए ने बताया कि शेख ने अपने पाकिस्तानी आका अब्दुल उर्फ रेहान के निर्देशों पर बिहार, ओडिशा, उत्तर प्रदेश और जम्मू-कश्मीर का दौरा कर वहां अपना अड्डा बनाया.

समद के अलावा एनआईए शेख और बिहार के गोपालगंज के निवासी धन्नू राजा और महफूज आलम और जम्मू-कश्मीर के पुलवामा से तौसीफ अहमद मलिक को गिरफ्तार कर चुकी है.