Night Curfew News Rajasthan: कोरोना वायरस (Corona Virus) के कारण पिछले कई महीने से लगा रात का कर्फ्यू हटा दिया गया है. राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) ने रात्रिकालीन कर्फ्यू हटाने तथा चरण बद्ध तरीके से कुछ और छूट देने का फैसला सोमवार को किया. इसके साथ ही सरकार ने निजी प्रयोगशालाओं में कोरोना वायरस संक्रमण की जांच शुल्क और घटाकर 500 रुपये कर दी है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gahlot) की अध्यक्षता में सोमवार को समीक्षा बैठक में यह फैसला किया गया.Also Read - खेल मंत्री चांदना के इस्तीफे की पेशकश पर अशोक गहलोत ने कहा- गंभीरता से न लें, टेंशन में दिया बयान

अशोक गहलोत ने ट्वीट किया, ‘‘समीक्षा बैठक में राज्य में रात्रिकालीन कर्फ्यू समाप्त करने व कुछ छूट चरणबद्ध रूप में देने का निर्णय किया है.’’ इसके साथ ही गहलोत ने लोगों को आगाह किया कि हेल्थ प्रोटोकाल को अपनाना आवश्यक होगा अन्यथा संक्रमितों की संख्या फिर से बढ़ सकती है. गहलोत ने कहा, ‘‘ऐसी नौबत नहीं आनी चाहिए कि पुनः सख्ती करनी पड़े.’’ वहीं, समीक्षा बैठक में राज्य में निजी प्रयोगशालाओं में कोरोना वायरस संक्रणम की जांच के आरटी-पीसीआर जांच का शुल्क 800 रुपये से घटाकर 500 रुपये करने का निर्णय लिया गया. Also Read - 18 साल बाद मिला जवान को शहीद का दर्जा, मस्जिद में छुपे आतंकियों की गोली का हुआ था शिकार

सरकार ने साथ ही 100 बिस्तरों से अधिक क्षमता वाले निजी अस्पतालों में आरक्षित कोविड बिस्तरों की संख्या में छूट देते हुए इसे न्यूनतम 10 करने का भी निर्णय किया है.उल्लेखनीय है कि संक्रमितों की संख्या में उछाल को देखते हुए राज्य सरकार ने 21 नवंबर को आठ जिला मुख्यालयों में रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाने का फैसला किया था. इसके तहत रात आठ बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यू तय किया गया. बाद में पांच और जिला मुख्यालयों में रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाया गया. जिन जिला मुख्यालयों में यह कर्फ्यू लागू था उनमें जयपुर, जोधपुर, कोटा, बीकानेर, उदयपुर, अजमेर, अलवर व भीलवाड़ा, नागौर, पाली, सीकर, टोंक व गंगानगर शामिल हैं. Also Read - अंधिवश्वास की भेंट चढ़ा एक और मासूम, अपनों ने ही गर्म सलाखों से दागा, तबीयत बिगड़ी तो अस्पताल ले गए