नई दिल्ली: कांग्रेस ने नरेंद्र मोदी सरकार पर बैंकिंग घोटाले वालों को ‘गुपचुप ढंग से सहयोग करने’ का आरोप लगाया और सवाल किया कि अगर नीरव मोदी का पासपोर्ट निरस्त कर दिया गया था तो फिर उसने कुछ महीने पहले तीन देशों की यात्रा कैसे की? पार्टी ने कहा कि सरकार और विदेश मंत्रालय को इसका जवाब देना चाहिए. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला ने संवाददाताओं से कहा, ‘इंटरपोल के माध्यम से जानकारी मिली है कि नीरव मोदी ने पासपोर्ट निरस्त होने के बाद तीन देशों की यात्रा की. सरकार और विदेश मंत्रालय को इसका जवाब देना चाहिए. Also Read - दशहरे में मोदी सरकार से लेकर, बिहार चुनाव और कंगना रनौत पर जमकर बरसे उद्वठ ठाकरे, कही ये बड़ी बातें

उन्होंने दावा किया, ‘सरकार को जो तत्परता दिखानी चाहिए थी वो नहीं दिखी. जो प्रयास करने चाहिए थे वो नहीं हुए….यह सरकार बैंक घोटाला करने वालों को गुपचुप ढंग से सहयोग कर रही है. इन लोगों के साथ मिलीभगत है.उन्होंने कहा कि बैंकिंग व्यवस्था से लोगों का विश्वास उठ रहा है. बैंकों की हालत खराब है. लोगों ने पैसे जमा कराना कम कर दिया है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पासपोर्ट निरस्त होने के बाद नीरव ने मार्च महीने में अमेरिका, ब्रिटेन और हांगकांग की यात्रा की. Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ विधेयक लाएगी राजस्थान सरकार: कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल

इस मामले पर कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने नीरव का पासपोर्ट निरस्त किये जाने के बारे में दूसरे देशों की सरकारों को जानबूझकर सूचित नहीं किया. कश्मीर में मानवाधिकार के कथित उल्लंघन वाली संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट को खारिज करते हुए शुक्ला ने कहा, ‘यह रिपोर्ट तथ्यों से परे है. ऐसा लगता है कि रिपोर्ट को कश्मीर की स्थिति के बारे में जाने बिना तैयार कर दिया गया. इस रिपोर्ट की हम निंदा करते हैं. इस पर सरकार का जो रुख है, कांग्रेस उसके साथ है. Also Read - भाजपा का बड़ा आरोप, कांग्रेस ने जमात-ए-इस्लामी, पीएफआई जैसे संगठनों से समझौते किए

गौरतलब है कि इंटरपोल ने भारतीय जांच एजेंसियों को सूचना दी है कि फरार हीरा कारोबारी नीरव मोदी पासपोर्ट रद्द होने के बाद भी अलग-अलग देशों की यात्रा कर रहा है. विदेश मंत्रालय द्वारा 24 फरवरी को नीरव मोदी का पासपोर्ट रद्द करने के बाद भी वह मार्च में चार बार दूसरे देशों की यात्रा पर गया था. भारतीय एजेंसियों को 5 मई को भेजी गई चिट्ठियों में इंटरपोल ने कहा है, 15 मार्च से 31 मार्च के बीच नीरव ने भारतीय पासपोर्ट से अमेरिका, ब्रिटेन और हॉन्गकॉन्ग की यात्रा की थी. इंटरपोल के मुताबिक, 15 मार्च, 28 मार्च, 30 मार्च और 31 मार्च को उसने ये यात्राएं की हैं.