नई दिल्ली. पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के आरोपी नीरव मोदी ने शनिवार को विशेष अदालत को जवाब भेजा है. उसने कहा है कि उसने कुछ भी गलत नहीं किया. ये सिर्फ दो पक्षों में लेन-देन का मामला है, जिसे आपस में सुलझाया जा सकता है. लेकिन कुछ लोगों ने इसे बढ़ा-चढ़ाकर बताया है. उसने कहा है कि वह सुरक्षा कारणों से भारत नहीं आ सकता.

बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग कोर्ट में नीरव मोदी के खिलाफ अर्जी दाखिल की थी. ईडी लगातार कोशिश कर रहा है कि नीरव मोदी को आर्थिक भगोड़ा अपराधी कानून-2018 के तहत भगोड़ा घोषित किया जाए. ईडी की याचिका पर पीएमएलए कोर्ट ने नीरव से जवाब मांगा था.

इसके पहले नीरव के वकील ने सुरक्षा का हवाला देते हुए एक दलील दी थी. उसने कहा था कि नीरव मोदी को लेकर कई तरह की गलत चीजें मीडिया में चलाई गई हैं. ऐसे में उनके मॉब लिंचिंग का खतरा है. हालांकि, बाद में कोर्ट ने सुनवाई करते हुए इस दलील को मानने से इनकार कर दिया था. कोर्ट ने इसके इस मामले से किसी तरह के जुड़ाव से इनकार कर दिया था. कोर्ट ने कहा था कि नीरव को पुलिस से सुरक्षा मांगनी चाहिए.